पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रांची पुलिस की कार्रवाई:डॉक्टर दंपती के बैंक अकाउंट से अवैध निकासी के आरोप में दो आरोपी गिरफ्तार, न्यायिक हिरासत में भेजा

रांची8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस हिरासत में दोनों आरोपी। इन दोनों के पास से वारदात में इस्तमाल किए गए मोबाइल फोन, एटीएम कार्ड को जब्त कर लिया गया है। साथ ही उनका बैंक अकाउंट भी फ्रीज कर दिया गया है। - Dainik Bhaskar
पुलिस हिरासत में दोनों आरोपी। इन दोनों के पास से वारदात में इस्तमाल किए गए मोबाइल फोन, एटीएम कार्ड को जब्त कर लिया गया है। साथ ही उनका बैंक अकाउंट भी फ्रीज कर दिया गया है।
  • एक अभियुक्त को दिल्ली के राजेंद्र नगर से जबकि दूसरे को अरगोड़ा थाना क्षेत्र के हाउसिंग कॉलोनी से किया गिरफ्तार
  • अरगोड़ा से गिरफ्तार अभियुक्त डॉक्टर दंपती का है ड्राइवर, दोनों मूल रूप से बिहार के समस्तीपुर के हैं निवासी

रांची पुलिस ने डॉक्टर दंपती के बैंक अकाउंट से 1 लाख 13 हजार रुपए निकालने वाले दो आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किए गए दोनों आरोपी मूल रूप से बिहार के समस्तीपुर के रहने वाले हैं। पुलिस ने एक आरोपी को दिल्ली के राजेंद्र नगर, जबकि दूसरे को अरगोड़ा थाना क्षेत्र स्थित हरमू हाउसिंग कॉलोनी से पकड़ा है।

जानकारी के मुताबिक अरगोड़ा थाना क्षेत्र स्थित हरमू हाउसिंग कॉलोनी निवासी 74 साल की डॉक्टर मनोरमा बिहारी ने 13 जुलाई को बैंक अकाउंट से 1.13 लाख रुपए निकालने की शिकायत दर्ज कराई थी। साइबर सेल पुलिस ने कार्रवाई करते हुए बैंक अकाउंट से रुपए निकालने वाले मुख्य आरोपी जयराम मुखिया को 11 अक्टूबर को गिरफ्तार कर लिया। जयराम मुखिया मूल रूप से बिहार के समस्तीपुर का रहने वाला है। वर्तमान में वह दिल्ली के राजेंद्र पार्क, राजेंद्र नगर में रहता है। इसके बाद टीम ने मुख्य आरोपी को ट्रांजिट रिमांड के लिए मेट्रो पोलिटन न्यायिक दंडाधिकारी तीसहजारी कोर्ट में पेश किया।

कोर्ट से ट्रांजिट रिमांड पर रांची ले आई पुलिस
कोर्ट से ट्रांजिट रिमांड मिलने के बाद पुलिस की टीम रांची के अरगोड़ा थाना पहुंची। उधर, एक और छापेमारी टीम में शामिल पुलिस पदाधिकारी निशांत कुमार ने हरमू हाउसिंग कॉलोनी से भरत मुखिया को गिरफ्तार किया। भरत मुखिया मूल रूप से बिहार समस्तीपुर के रोसरा थाना क्षेत्र का रहने वाला है। आरोपी हाउसिंग कॉलोनी में किराए के मकान में रहता था। मामले में गिरफ्तार दोनों आभियुक्तों को 14 अक्टूबर को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

डॉक्टर दंपती के घर में ड्राइवर था अप्राथमिकी अभियुक्त
पुलिस के मुताबिक, अप्राथमिकी अभियुक्त भरत मुखिया शिकायतकर्ता डॉक्टर दंपती का ड्राइवर था और उनके ही मकान में रहता था। डॉक्टर दंपती के बैंक पासबुक और एटीएम तक उसकी पहुंच थी। इस बात का फायदा उठाकर उसने अपने गांव के साथी जयराम मुखिया को एटीएम कार्ड के नंबर की जानकारी भेजी। इसका उपयोग कर जयराम मुखिया ने अपने पेटीएम से डॉक्टर दंपती के खाता को लिंक कर दिया और लगातार अवैध निकासी की। जयराम मुखिया इस अवैध राशि का कुछ हिस्सा खुद रखता था और कुछ हिस्सा उसने भरत मुखिया के पेटीएम एवं बैंक अकाउंट में वापस कर देता था। दोनों अभियुक्तों के द्वारा अवैध निकासी के लिए यूज किए गए मोबाइल फोन, एटीएम कार्ड को जब्त कर लिया गया है। साथ ही उनका बैंक अकाउंट भी फ्रीज कर दिया गया है।

खबरें और भी हैं...