पलामू में सुजीत सिन्हा गिरोह का अपराधी गिरफ्तार:सोशल मीडिया के जरिए सरगना के संपर्क में आया,रेलवे का काम करने वाले इंजीनियर को मारी गोली

पलामू7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पलामू में गिरफ्तार किया गया अपराधी। फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
पलामू में गिरफ्तार किया गया अपराधी। फाइल फोटो।

पलामू में रेलवे के फ्रेट कॉरिडोर परियोजना पर काम कर रही निजी कंपनी के इंजीनियर पर हमले के आरोपी धर्मेंद्र चौधरी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। धर्मेंद्र चौधरी कुख्यात अपराधी सुजीत सिन्हा के लिए काम करता है। धर्मेंद्र चौधरी गढ़वा के भवनाथपुर थाना क्षेत्र के मेरौनी का रहने वाला है। पुलिस की पूछताछ में पता चला है कि वह सोशल मीडिया के जरिए सुजीत सिन्हा के संपर्क में आया था। इसके बाद उसके लिए काम करने लगा। आरोपी ने पुलिस को बताया है कि सुजीत सिन्हा जेल में रहते हुए सोशल मीडिया के जरिए अपने गिरोह के लिए गुर्गों की भर्ती कर रहा है।

धर्मेंद्र चौधरी का एक करीबी अमित चौधरी भी कुछ दिनों पहले गिरफ्तार हुआ था। वह भी सोशल मीडिया के माध्यम से सुजीत सिन्हा गिरोह से जुड़ा था। उसके लिए काम कर रहा था। पलामू SP चंदन कुमार सिन्हा ने बताया कि पलामू पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर छापेमारी कर धर्मेंद्र चौधरी को गिरफ्तार किया है। धर्मेंद्र चौधरी रेलवे फ्रेट कोरिडोर के तीसरी लाइन का निर्माण कर रही कंपनी के इंजीनियर को गोली मारने के मामले में आरोपी है। सुजीत सिन्हा के कहने पर उसने निर्माण स्थल की रेकी की थी। फायरिंग की वारदात में शामिल रहा था। उन्होंने बताया कि पूरे मामले में जल्द ही सुजीत सिन्हा को भी रिमांड पर लिया जाएगा।

वर्ष 2021 में पलामू के पड़वा हैदरनगर और मोहम्मदगंज थाना क्षेत्र में रेलवे के फ्रेट कॉरिडोर बना रही कंपनी के कर्मचारियों पर सुजीत सिन्हा और अमन साव गिरोह ने हमला किया था। हैदर नगर में सुजीत सिन्हा गिरोह के अपराधियों ने फ्रेट कोरिडोर बनाने वाली निजी कंपनी के इंजीनियर को गोली भी मार दी थी जबकि मोहम्मदगंज और पड़वा थाना क्षेत्र के कजरी में गिरोह ने रंगदारी के लिए फायरिंग की थी। पूरे मामले में SIT टीम जांच कर रही है। गिरफ्तार धर्मेंद्र चौधरी ने पलामू पुलिस को कई और अहम जानकारियां दी है।