पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Teachers And Parents Consider Together For Concern Of About Five Lakh Children Of Matriculation And Inter In Jharkhand

झारखंड:मैट्रिक और इंटर के परीक्षार्थियों के लिए स्कूल और घर में बनाएं बेहतर माहौल; परीक्षा का बोझ न डालें, प्रोत्साहित करें

रांची11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मनोचिकित्सक डॉ. अनुराधा वत्स ने मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षा की तैयारी को लेकर सुझाव दिए। उन्होंने कहा कि परीक्षार्थी पहले समय सारणी बनाएं और स्टडी मेटेरियल तैयार करें। इसके बाद हर विषय के कोर्स को तीन भाग में बांटें। -फाइल फोटो।
  • पांच लाख बच्चों की चिंता के लिए वेबिनार के जरिए शिक्षा सचिव से लेकर मनोचिकित्सक, शिक्षा अधिकारी, शिक्षक और अभिभावकों ने एक साथ किया विचार
  • तीन घंटे के विचार के बाद निकला समाधान, बच्चों के साथ समय गुजारें, अच्छे रिजल्ट का दबाव न डालें, बल्कि उसकी पढ़ाई की समय-सारणी ठीक करें

मैट्रिक और इंटर के करीब पांच लाख बच्चों की चिंता के लिए मंगलवार को वेबिनार के जरिए विभागीय सचिव राहुल शर्मा से लेकर कई मनोचिकित्सक, शिक्षा अधिकारी, शिक्षक और अभिभावकों ने एक साथ विचार किया। करीब छह हजार लोगों ने तीन घंटे के विचार के बाद समाधान निकाला कि अभिभावक अपने बच्चों के साथ समय गुजारें। उन पर अच्छे रिजल्ट का दबाव न डालें। उसकी पढ़ाई की समय-सारणी ठीक करें। उसके साथ खेलें। खुद खुश रखें और बच्चों को भी खुश रखें। मैट्रिक और इंटर के इन परीक्षार्थियों के लिए स्कूल और घर में बेहतर माहौल बनाएं।

परीक्षा का बोझ न डालें। उन्हें प्रोत्साहित करें। चूंकि पाठ्यक्रम भी छोटा होगा, ऐसे में बच्चों को समझाएं कि वे ज्यादा तनाव न लें। उन्हें भरोसा दिलाएं कि उनका रिजल्ट अच्छा होगा और बाद में उनका कैरियर भी ठीक होगा। बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य एवं परीक्षा की तैयारी विषय पर आयोजित इस वेबिनार में राज्य परियोजना निदेशक शैलेश चौरसिया ने कहा कि सभी वर्ग के लोग कोरोना काल में प्रभावित हुए हैं। एक बदलाव आया है, जिसका पॉजिटिव ढंग से मुकाबला करना है। इस मौके पर शिक्षा विभाग की अपर सचिव गरिमा सिंह, जेईपीसी के अभिनव कुमार आदि मौजूद थे।

ऑनलाइन क्लास कभी भी वास्तविक कक्षा का विकल्प नहीं हो सकता : राहुल शर्मा
शिक्षा सचिव राहुल शर्मा ने कहा कि ऑनलाइन क्लासेस कभी भी वास्तविक कक्षा का रिप्लेसमेंट नहीं हो सकता । यह एक सप्लीमेंट भर है। मात्र एक तिहाई बच्चे ही ऑनलाइन शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं। यह चुनौतीपूर्ण कार्य है कि इसे बढ़ाकर 40-50 प्रतिशत तक कैसे किया जाय। झारखंड जैसे राज्य में सबों तक इंटरनेट की उपलब्धता नहीं है। ऐसे में ऑनलाइन क्लासेस एक कठिन कार्य है। इसीलिए बच्चों के लिए दूरदर्शन पर कार्यक्रम प्रसारित किए जा रहे हैं। और भी विकल्पों के बारे में सोचा जा रहा है। राहुल शर्मा ने कहा कि पहले बच्चों को इस बात का तनाव रहता था कि विषय ज्यादा रहने से किस चैप्टर को पढ़ना है, परंतु बदली हुई परिस्थिति में उन्हें इस बात का तनाव है कि आगे क्या होगा? हमें उनके इसी तनाव को दूर करना है।

बच्चों की सुनें, उनमें सेंस ऑफ एनवायर्नमेंट जगाएं : डॉ. निशांत गोयल
सीआईपी के मनोचिकित्सक डॉ. निशांत गोयल ने कहा कि बच्चों को सुनें। उनकी बातों को महत्व दें। बच्चों में सेंस ऑफ एनवायर्नमेंट जगाएं। उनके साथ बात करें। गाना गाएं। इंडोर गेम खेलें और पुराने एल्बम देखें। किसी गलती पर उन्हें डांटे नहीं, बल्कि किसी एक अच्छे काम के लिए उन्हें प्रोत्साहित करें। उनके सवालों को न टालें। बेवजह गुस्सा ना करें। उनसे झूठ ना बोलें। बच्चों को कहें कि जिन्हें आप नहीं जानते, उन्हें फ्रेंड रिक्वेस्ट ना भेजें। पासवर्ड साझा ना करें और डिवाइस छोड़ते वक्त लॉगआउट अवश्य हो जाएं।

परीक्षार्थी बनाएं समय सारिणी और तैयार करें स्टडी मैटेरियल
मनोचिकित्सक डॉ. अनुराधा वत्स ने मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षा की तैयारी को लेकर सुझाव दिए। उन्होंने कहा कि परीक्षार्थी पहले समय सारणी बनाएं और स्टडी मेटेरियल तैयार करें। इसके बाद हर विषय के कोर्स को तीन भाग में बांटें। वैसे अध्याय जो पूरी तरह आते हैं, वैसे जो आधा मालूम हो और वैसे अध्याय जिसे अभी नहीं पढ़ा है। जो नहीं पढ़ा है, उसे 50 प्रतिशत तक जरूर पढ़ लें। इसी आधार पर तैयारी करें। उन्होंने कहा कि छात्र-छात्रा लगातार ना पढ़ें। जब भी पढ़ें पूरी एकाग्रता से पढ़ाई करें। पढ़ाई या परीक्षा के दौरान मन में नकारात्मकता भाव नहीं आने दे और सकारात्मक रहें।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में हैं। आपकी मेहनत और आत्मविश्वास की वजह से सफलता आपके नजदीक रहेगी। सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा तथा आपका उदारवादी रुख आपके लिए सम्मान दायक रहेगा। कोई बड़ा निवेश भी करने के लिए...

और पढ़ें