• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • The Relatives Are Forced To Carry The Dead Body In The Tempo, The Hospital Manager Is Waiting For The NGO To Operate The Dead Body.

अस्पताल में अनुपयोगी पड़ा शव वाहन:परिजन टेंपो में लाश ले जाने को हो गए हैं मजबूर, अस्पताल प्रबंधक को शव वाहन के संचालन के लिए NGO का है इंतजार

​​​​​​​घाटशिला4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शव वाहन न मिल पाने पर परिजन लाश को एक टेंपो से घर ले गए। - Dainik Bhaskar
शव वाहन न मिल पाने पर परिजन लाश को एक टेंपो से घर ले गए।

घाटशिला अनुमंडल अस्पताल से शव को ले जाने के लिए परिजन इन दिनों टेंपो की मदद लेने को मजबूर हो गए हैं, क्योंकि अस्पताल में खड़ा शव वाहन अनुपयोगी पड़ा हुआ है। एक माह पूर्व जिला प्रशासन से मिले इस वाहन का संचालन अब तक नहीं किया जा सका है। अस्पताल प्रबंधन का कहना है कि शव वाहन का संचालन किसी NGO के माध्यम से करवाना है, जिसकी प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

दरअसल, सोमवार को केंदाडीह के एक व्यक्ति की अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। परिजन उसके शव को एक टेंपो में लाद कर घर ले गए। परिजनों ने अनुमंडल अस्पताल प्रबंधन से शव ले जाने के लिए अस्पताल में रखे शव वाहन देने की मांग भी की, पर उन्हें वाहन उपलब्ध नहीं कराया गया।

घाटशिला अनुमंडल अस्पताल को शव वाहन जिला प्रशासन ने करीब एक माह पूर्व उपलब्ध कराया था।
घाटशिला अनुमंडल अस्पताल को शव वाहन जिला प्रशासन ने करीब एक माह पूर्व उपलब्ध कराया था।

इस संबंध में अनुमंडल अस्पताल के प्रभारी डॉ. शंकर टुडू ने बताया कि अस्पताल को जिला प्रशासन से उपलब्ध कराए गए शव वाहन का संचालन किसी NGO के माध्यम से किया जाना है। इसकी प्रक्रिया प्रारंभ की गई है, इसलिए अस्पताल की ओर से शव वाहन अभी किसी को उपयोग के लिए उपलब्ध नहीं कराया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...