पलामू में 20 कारतूस के साथ दो गिरफ्तार:व्हाट्सअप से मामा-भांजा बेच रहे थे इंसास रायफल की गोली, पुलिस ने दबोचा

मेदिनीनगर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पकड़े जाने के बाद दोनों आरोपियों ने पुलिस को बताया कि लेस्लीगंज के रहने वाले गुड्डू ने उन्हें गोली बेचने के लिए दी थी। - Dainik Bhaskar
पकड़े जाने के बाद दोनों आरोपियों ने पुलिस को बताया कि लेस्लीगंज के रहने वाले गुड्डू ने उन्हें गोली बेचने के लिए दी थी।

आम लोगों के लिए प्रतिबंधित हथियार की गोली के साथ पलामू पुलिस ने दो बदमाशों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार बदमाश आपस में मामा-भांजा हैं। सोशल नेटवर्किंग साइट व्हाट्सअप के जरिए गोली को बेचा जा रहा था। हालांकि वो कामयाब होते, उसके पहले ही पुलिस ने उन्हें दबोच लिया। सोमवार को यह जानकारी शहर थाना प्रभारी इंस्पेक्टर अरुण महथा ने दी।

पकड़ा गया हसन अंसारी (28) रामगढ़ थाना क्षेत्र के बेड़मा-बभंडी का रहने वाला है। जबकि, जिलानी अंसारी (21) सदर थाना क्षेत्र के टेलिया बांध का रहने वाला है। ये दोनों इंसास राइफल की 20 गोली और एक मैगजीन की बिक्री में लगे थे। गोली बेचने के लिए इन्होंने व्हाट्सअप का प्रयोग किया। कई लोगों को गोली की तस्वीर भेजकर खरीदने के लिए पूछा गया। व्हाटसअप पर खरीद-बिक्री के खेल में ही पुलिस को इसकी जानकारी मिल गई। इंसास रायफल प्रतिबंधित है। इसका उपयोग पुलिस और फौज में होता है।

शहर थाना प्रभारी इंस्पेक्टर अरुण महथा ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली थी कि स्टेशन रोड में दो युवक इंसास की गोली के साथ हैं। इसे बेचा जाना था। इस सूचना पर SP ने तत्काल कार्रवाई के लिए टीम बनाई है। थाना प्रभारी इंस्पेक्टर अरुण महथा के नेतृत्व में TOP टू की टीम ने दोनों को पकड़ा। तलाशी में उनके पास से गोली और मैगजीन मिली। एक अपाची बाइक भी पुलिस ने जब्त किया है।

पकड़े जाने के बाद दोनों आरोपियों ने पुलिस को बताया कि लेस्लीगंज के रहने वाले गुड्डू ने उन्हें गोली बेचने के लिए दी थी। पुलिस गुड्डू की गिरफ्तारी में लगी है। इंसास रायफल की गोली इनके पास कहां से आई, इस पूरे नेटवर्क का पता लगाने की कोशिश में पुलिस जुटी है। पकड़े गए बदमाशों का नक्सली कनेक्शन है या कहीं से गोली की चोरी की गई, इसकी भी जांच की जा रही है।