छापेमार कार्रवाई:चुनाव में अपराधियों की इंट्री के बाद सेल में हुई छापेमारी

मेदिनीनगर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पंचायत चुनाव में अपराधियों की एंट्री हो चुकी है। धमकी देकर नामांकन से रोके जाने का मामला सामने आने के बाद रामगढ़ ज़िला के पतरातू में चुनाव को स्थगित कर दिया गया है। इसके बाद से पंचायत चुनाव में अपराधियों के दखलंदाजी को रोकने और भय मुक्त वातावरण बनाने में पुलिस जुट गई है।

गैंगस्टर सुशील श्रीवास्तव हत्याकांड के सजायाफ्ता मुजरिम विकास तिवारी का दहशत रामगढ़ के इलाके में है। विकास पलामू सेंट्रल जेल में बंद है। शनिवार को पुलिस प्रशासन ने जेल में छापेमारी की। विकास तिवारी के रहने वाले बैरक का कोना-कोना छान मारा।

साथ ही जेल परिसर की भी तलाशी ली गई। एसडीपीओ सुरजीत कुमार के नेतृत्व में शनिवार को दो घंटे तक छापेमारी चली, लेकिन कोई भी आपत्तिजनक सामान बरामद नहीं किया गया। एसडीपीओ सुरजीत ने बताया कि पंचायत चुनाव में क्राइम कंट्रोल के मद्देनजर छापेमारी की गई।

बड़े अपराधी फोन के जरिये चुनाव को प्रभावित कर सकते हैं। इसे लेकर पुलिस चौकस है।छपेमारी में एसडीपीओ के साथ शहर थाना का पुलिस टीम शामिल था।

मालूम हो कि डॉन विकास तिवारी वर्ष 2018 से पलामू सेंट्रल जेल में बंद है। 2015 में उसने हजारीबाग कोर्ट कैम्पस में गैंगस्टर सुशील श्रीवास्तव की हत्या गोलियों से भूनकर कर दी थी।

खबरें और भी हैं...