2012-13 में स्कूलों में खरीदे गए थे अग्निशमन यंत्र:एक्सपायर हुए बीत गए पांच साल, 2499 स्कूलों में गैस पर बनता है एमडीएम, पर सेफ्टी नहीं

मेदिनीनगर2 महीने पहलेलेखक: श्याम किशोर पाठक
  • कॉपी लिंक
लालगढ़ मवि का किचन शेड। - Dainik Bhaskar
लालगढ़ मवि का किचन शेड।

चाहे कुछ भी हो जाए छात्रों को दोपहर का भोजन हर हाल में और हर दिन मिलता रहे, इसके लिए सरकार द्वारा सभी स्कूल के प्राध्यापकों को सख्त निर्देश दिया गया है। इसे लेकर समय-समय पर जिले व प्रखंड के पदाधिकारी एमडीएम की रेगुलरटी और उसकी गुणवत्ता की जांच भी करते रहते हैं। लेकिन इसके बाद भी एमडीएम को लेकर अक्सर कुछ न कुछ विसंगतियां सामने आती रहती हैं। पिछले दिनों एक-दो जिलों में एमडीएम बनाने के क्रम में गैस चूल्हा में आग लगने के कारण स्कूलों के शिक्षक, छात्र, अभिभावक व सरकारी महकमे के लोग घबराए हुए हैं।

क्योंकि अभी तक इसे लेकर सरकारी स्तर पर न तो कोई निर्देश जारी किए गए हैं और ना ही फौरी तौर पर कोई कदम उठाया गया है। किसी भी स्कूल के पास आग से बचने का कोई उपाय नहीं है। पदाधिकारी बस यही कहते हैं कि ऐसी स्थिति में उनके पास अग्निशमन सेवा का सहयोग ही एक मात्र विकल्प है। लेकिन यह भी सच है कि अग्निशमन सेवा का लाभ हजारों स्कूलों में से चंद शहरी क्षेत्र के स्कूलों को ही मिल सकती है। ऐसे में इस विषय पर सरकार को शीघ्र ही कोई कदम उठाने की जरूरत है। पलामू की बात करें तो यहां की स्थिति और भी विकट है।

सरकार के आदेश पर पलामू में खरीदे गए थे अग्निशमन यंत्र
शिक्षकों का कहना है कि 2012-13 में एक बार सरकार के आदेश पर विद्यालय विकास की राशि से यह अग्निशमन यंत्र खरीदे गए थे। शिक्षकों का कहना है कि उस समय जो अग्निशमन यंत्र खरीदे गए थे, सभी एक्सपायर हो गए और फिर कभी कोई ऐसा आदेश नहीं दिया गया। ये सभी 2017-18 में एक्सपायर हो गए हैं। जिस कारण फिर कभी किसी ने नहीं खरीदा। लालगढ़ मवि के प्रधानाध्यापक बिनोद कुमार पांडेय ने बताया कि 2012-13 में सरकार के आदेश पर आग बुझाने के यंत्र खरीदे गए थे।

अग्निशमन विभाग से सहायता ही एक मात्र विकल्प : डीएसई
प्रभारी डीएसई मनोज कुमार का कहना है कि जिले में आग से बचाव को लेकर की गई व्यवस्था की पूरी जानकारी नहीं। पर यह सत्य है कि स्कूलों में खाना गैस चूल्हा पर ही बनाए जाने का निर्देश है। यह भी सत्य है कि यह बेहद गंभीर मामला है। आगे सरकार का जो निर्देश होगा, उसपर अमल किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...