10 दिन बाद भी पुलिस के हाथ नहीं लगा सुराग:रेड़मा गोलीकांड में घायल युवक की रास्ते में हुई मौत

मेदिनीनगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शहर थाना क्षेत्र अंतर्गत रेड़मा के करमाही टोला में 14 नवंबर की रात गोली चालन की घटना हुई थी। इसमें दीपक पाठक(28) को गोली लगी थी। गर्दन में गोली फंसे होने के कारण एमएमसीएच से दीपक को रांची रेफर कर दिया गया था। रांची में इलाज के दौरान गोली निकाल दी गई थी,इसके बावजूद उसकी हालत बिगड़ते चली गई।

दस दिनों तक इलाजरत रहने के बाद बुधवार को दीपक पाठक की मौत हो गई। रांची के हॉस्पिटल में चिकित्सकों द्वारा दीपक के नहीं बचने की बात कहे जाने पर परिजन उसे लेकर वापस घर आ रहे थे। इसी दौरान रास्ते में उसने दम तोड़ दिया। गुरुवार को मेदिनीराय मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में दीपक के शव का पोस्टमार्टम किया गया।

निशाना था विवेक, गोली लग गई थी दीपक को
शहर थाना की पुलिस ने रांची जाकर जख्मी का बयान लिया था। विवेक तिवारी के साथ गांव के कन्हाई भुइयां व प्रकाश भुइयां का विवाद चल रहा था। कन्हाई व प्रकाश दोनों भाई हैं। विवेक तिवारी ने आठ लोगों पर नामजद प्राथमिकी दर्ज कराई है। विवेक ने पुलिस को बताया कि प्रकाश राम, कन्हैया राम और सुनील राम ने उनके भाई अभिनव तिवारी, अर्जुन तिवारी व शनि शर्मा को पीटा था।

खबरें और भी हैं...