पावर कट:बिजली कटौती से लोगों की बढ़ी परेशानी व्यवसायियों पर पड़ा दोहरा आर्थिक बोझ

रामगढ़एक महीने पहलेलेखक:   प्रदीप राज
  • कॉपी लिंक

रामगढ़ जिला वासियों को भीषण गर्मी में विद्युत कटौती व ओवरलोड से पावर कट से परेशानी झेलनी पड़ रही है। दिन में करीब 5 घंटे विद्युत कटौती हो रही है। वहीं,कभी टेक्निकल प्रॉब्लम और चर्जर,डीसी-सीटी सिस्टम फेल के कारण भी घंटों बिजली ठप रहती है।

ऐसे में विद्युत कटौती से व्यवसायियों को दूसरी भार उठना पड़ रहा है। क्योंकि, मॉल व मार्केट,दुकान में डीजे जेनरेटर चलाना पड़ रहा है। इसके लिए डीजल में अतिरिक्त खर्च करना पड़ रहा है।

जबकि,शहर के वाटर सप्लाई, घरों के वाटर पंप सहित लोगों के कामकाज पर असर पड़ रहा है। अब,अचानक मौसम बदलने के कारण भी घंटों विद्युत आपूर्ति बंद रह रही है। इससे, लोगों की परेशानी बढ़ रही है।

गर्मी में बढ़ जाती है बिजली खपत
रामगढ़ जिला में 25 एमवीए विद्युत आपूर्ति की जा रही है। लेकिन,गर्मी में लोड बढ़ने के साथ 45 एमवीए की जरुरत पड़ती है। क्योंकि,ऑफिस, मॉल, घरों में एसी,फ्रीज,कूलर,पंखा के अधिक इस्तेमाल से खपत बढ़ जाती है। ऐसे में डीवीसी और विद्युत विभाग रोटेशन के तहत विद्युत खपत को मैनटेन कर रही है। इसके लिए शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों के फीडर में पावर कट कर बिजली दी जा रही है।

8 दिनों में डीवीसी ने काटी 20 घंटे बिजली
पिछले 8 दिनों में डीवीसी से कुल 20 घंटे बिजली काटी गई। जबकि, अचानक तेज हवा व बारिश के कारण 24 घंटे में करीब 5 घंटे बिजली काटी गई है।

महीना भर में 70 हजार का डीजल लगा: संतोष

थाना चौक के होटल ट्रीट रेसिडेंसी के मालिक संतोष तिवारी बताते है कि बिजली कटौती से जेनरेटर अधिक चलना पड़ रहा है। ऐसे में हर महीने में करीब 70 हजार से अधिक का डीजल खपत हो रहा है। वे बताते है कि बिजनेस मैन पर बिजली बिल के साथ डीजल का खर्च दोहरा अार्थिक बोझ है।​​​​​​​

पानी और कोयला की कमी के कारण समस्या​​​​​​​

डीवीसी के अधीक्षण अभियंता अनुज कुमार ने बताया कि पानी और कोयला की कमी के कारण जेनरेशन यूनिट आउट हो जा रहा है। वहीं, थर्मल पावन प्लांट और ऑर्गेनाइजेशन से एक एमवीए नहीं मिल रहा है। इस कारण बिजली आपूर्ति पर असर पड़ रहा है, और कटौती हो रही है।​​​​​​​

जेनरेटर चलाने में एक लाख महीने में खर्च ​​​​​​​

गोला रोड के श्रीश्याम कॉम्पलेक्स के मालिक कमल बगडि़या बताते है कि रोज 4से 5 घंटे बिजली कटौती के कारण 100 केवीए के जेनरेटर में 40 लीटर डीजल खपत हो रही है। यानि, महीने का करीब एक लाख से अधिक अतिरिक्त खर्च हो रहा है। वहीं, बिजली बिल भी देना है। ​​​​​​​

अधिक राजस्व देने वाला रामगढ़ जिला​​​​​​​

अधिकारियों की मानें तो राज्य के जिलों में रामगढ़ अधिक राजस्व देने वाला जिला है। ऐसे में विभाग भी जिला में बेहतर विद्युत आपूर्ति करना चाहती है। हालांकि, डीवीसी का बकाया राशि सहित कई समस्या उत्पन्न होने के कारण विद्युत आपूर्ति प्रभावित हो रही है। ​​​​​​​

खबरें और भी हैं...