पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

स्पर्धा:बच्चे हुए पुरस्कृत, 5 से 15 जून तक चलेगा प्रतियोगिता

बरही6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • भामाशाह विद्यालय में ऑनलाइन प्रतियोगिता में बच्चों ने बनाई बेहतर पेंटिंग, अन्य गतिविधियां भी हुईं

भामाशाह सरस्वती शिशु विद्या मंदिर बरही के द्वारा ऑनलाइन चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। 5 से 15 जून तक आयोजित होने वाले प्रतियोगिता का यह प्रथम दिन था। कक्षा अरुण से लेकर दशम तक के भैया-बहनों ने इसमें भाग लिया। प्रतियोगिता को शिशु वाटिका, शिशु वर्ग, बाल वर्ग और किशोर वर्ग में बांटकर आयोजित की गई। सभी वर्गों में अलग-अलग विषयों के साथ प्रतियोगिता प्रारंभ हुई। ये सभी प्रतियोगिताएं पर्यावरण दिवस पर आधारित थी। शिशु वाटिका में फैंसी ड्रेस के साथ स्लोगन बोलने का, शिशु वर्ग में पर्यावरण संरक्षण के बारे में बोलना, बाल वर्ग में पोस्टर बनाना एवं किशोर वर्ग में 2डी/ 3डी मॉडल बनाने की प्रतियोगिता आयोजित हुई।

प्रत्येक वर्ग में सम्मिलित भैया-बहनों को प्रथम, द्वितीय और तृतीय पुरस्कार भी प्रदान किए गए। शिशु वाटिका में प्रथम स्वर्णिका कुमारी, द्वितीय उन्नति साहा, तृतीय भव्या कुमारी को मिला। शिशु वर्ग में प्रथम आरुषि झा, द्वितीय आद्या मिश्रा और तृतीय तनय आर्या को मिला। बाल वर्ग में प्रथम सोनाली कुमारी, द्वितीय कृति कुमारी, पंकज कुमार, शैली कुमारी तथा तृतीय स्थान ऋषभ कुमार, दीपिका कुमारी, शिवांजल कुमार, काजल कुमारी को दिया गया। किशोर वर्ग में प्रथम आकांक्षा कुमारी, द्वितीय भाग्यश्री कुमारी और तृतीय सुलेखा कुमारी एवं स्वाति कुमारी को मिला। उक्त कार्यक्रम का संचालन अंशु सिंह ने किया। कार्यक्रम की भूमिका संजीव सिंह के द्वारा रखी गई। प्रतियोगिता के निर्णायक मंडली का दायित्व राजू कुमार, सविता कुशवाहा, प्रिंस रविशंकर और नेहा झा को सौंपा गया। यह पूरा कार्यक्रम श्रीमती रश्मि जी के देखरेख में संपन्न हुई।

कार्यक्रम का धन्यवाद ज्ञापन करते हुए विद्यालय के प्रधानाचार्य श्री अरुण कुमार चौधरी जी ने कहा कि विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर विद्यालय के भैया बहनों ने एक संदेश दिया। आओ हम सब वृक्ष लगा कर पर्यावरण की रक्षा करें। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि भैया-बहनों के सर्वांगीण विकास के लिए बच्चों के बीच विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिता आयोजित करने से उनके व्यक्तित्व एवं नेतृत्व करने की क्षमता का उत्तरोत्तर विकास होता है। साथ ही उन्होंने पर्यावरण संरक्षण पर जोर देते हुए सभी से अधिक से अधिक वृक्षारोपण एवं पांच साल तक उसका संरक्षण करने का आग्रह किया।विद्यालय के अध्यक्ष गुरु देव कुमार गुप्ता ने छात्रों के उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए कहा कि आप सभी उज्ज्वल भविष्य के भारत हैं। आने वाले दिनों में देश आप पर गर्व करेगा।

खबरें और भी हैं...