प्रशिक्षण कार्यक्रम / शिक्षक बने शिष्य, सीखा रोचक शिक्षा देने का गुर

Disciples became teachers, learned interesting teaching tips
X
Disciples became teachers, learned interesting teaching tips

  • शिशु वाटिका के ऑनलाइन प्रशिक्षण में शामिल हुए 150 से अधिक आचार्य

दैनिक भास्कर

Jun 30, 2020, 04:00 AM IST

बरही. विद्या भारती की ओर से भामाशाह सरस्वती शिशु विद्या मंदिर बरही में शिशु वाटिका का ऑनलाइन प्रशिक्षण वर्ग का समापन हाे गया। प्रशिक्षण वर्ग में हजारीबाग, कोडरमा, चतरा और गिरिडीह के सभी संकुल से 150 आचार्य  शामिल हुए। यह प्रशिक्षण वर्ग 24 जून से 29 जून तक चला। प्रशिक्षण वर्ग 05 सत्रों  उद्घाटन, क्रियाकलाप , क्रीड़ागण, वाचनमाला  एवं धन्यवाद ज्ञापन में विभाजित था।  

क्रियाकलाप के अंतर्गत विभिन्न प्रकार की वस्तुओं जिसमें दाल, कंकड़ पत्थर, पेड़ की पत्तियों, रद्दी कागज आदि के माध्यम से विभिन्न प्रकार की आकृति बनाई गई। क्रियाकलाप के अंतर्गत ही मोती गुथना, चीनी, नमक घुलनशील पदार्थों के बारे में बच्चों को जानकारी देना आदि शामिल था। खेल के माध्यम से बच्चों के शारीरिक विकास पर जोर दिया गया। वाचन माला के अंतर्गत वाटिका के भैया बहनों को चित्र के माध्यम से अक्षर ज्ञान कैसे कराया जाए सुंदर लिखावट एवं शब्दों के उच्चारण पर विशेष ध्यान दिया गया वाचन माला में  ओंकार प्रसाद सिन्हा विद्या विकास समिति झारखंड ,मंजू श्रीवास्तव उत्तर पूर्व क्षेत्र  प्रमुख आदि का मार्गदर्शन प्राप्त हुआ।

उपरोक्त, गतिविधियों के संचालन में गुडविल सिंह राखी कुमारी अंशु कुमारी, नेहा मिश्रा पुष्पलता कुमारी प्रियंका भारती अमृता देवनाथ आदि का सराहनीय सहयोग प्राप्त हुआ।  उद्घाटन सत्र में संजीव कुमार सिन्हा प्रधानाचार्य गिरिडीह पवन कुमार दास, प्रधानाचार्य चतरा शिव बालक सिंह, प्रधानाचार्य हजारीबाग मृत्युंजय, सहायक प्रधानाचार्य कैलाश राय सरस्वती विद्या मंदिर कोडरमा  उमेश प्रसाद, प्रधानाचार्य शिवतारा शिशु मंदिर ब्लॉक रोड झुमरी तिलैया, विद्युत प्रकाश सेनापति गोमो संध्या कुमारी मदन गुंडी आदि उपस्थित थे। उद्घाटन सत्र मुकेश नंदन प्रदेश सचिव विद्या विकास समिति झारखंड ने कहा कि हम नई-नई तकनीकों एवं शिक्षण विधि से प्रतियोगिता परक शिक्षा दे सकते हैं।  

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना