जिला का आयोजन:अल्पसंख्यक समाज ने सालाना उर्स पर अमन और सलामती की मांगी दुआ

बरवाडीह2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मदरसा दारुल उल्लुम कादरिया अब्दलिया में किया गया आयोजन

प्रखंड अंतर्गत खुरा पंचायत के मंडल मार्ग पर गुलज़ार बाग़ स्थित मदरसा दारुल उल्लुम कादरिया अब्दलिया में बुधवार को हजरत शबीहे शाहे ज़िला सैयद शाह अहमद कादरी के 51वें उर्स ए शबीहे शाहे ए जिला का आयोजन किया गया। जहां आयोजित वार्षिक उर्स का आयोजन खानकाह के गद्दीनशी हजरत सैयद शाह वलीउल्लाह अहमद कादरी के संरक्षण में कराया गया।

उर्स कार्यक्रम के दौरान हजरत साहब के मुरीद लोगों के द्वारा खानकाह के गद्दीनशी हजरत सैयद शाह वलीउल्लाह अहमद कादरी को फूल मालाओं के साथ स्वागत किया गया। वहीं इस दौरान हजरत के मुरीद लोगों को संबोधित करते हुए जानकारों ने एक से बढ़कर एक कलमा पेश करने का काम किया, जिस की जमकर तारीफ भी की गई। शानदार प्रस्तुतियों पर कार्यक्रम स्थल पर रह-रहकर तालियों की गडग़ड़ाहट से गूंजता रहा।

इस दौरान हजरत साहब खानकाह के गद्दीनशी हजरत सैयद शाह वलीउल्लाह अहमद कादरी तक़रीर करते हुए कहा कि हजरत शबीहे शाहे ज़िला सैयद शाह अहमद कादरी साहब के द्वारा कौमी एकता के बीच आपसी भाई चारे के साथ मदरसे की स्थापना की गई थी और उसी भाईचारे को बनाये रखे है। इसका मुख्य उद्देश्य पूरे क्षेत्र में अमन चैन शांति और भाईचारा बनाए रखना है। वही सैयद शाह वजीउल्लाह अहमद कादरी ने तक़रीर करते हुए कहा कि 51 वर्ष के आयोजन का एक अपना ही अलग पैगाम है।

 जहां इस उर्स के माध्यम से देश में फैली महामारी को जल्द खत होने की दुआ की गई। साथ ही, सदियों से चली आ रही बरवाडीह और उसके आसपास के इलाकों में रहने वाले सभी लोगों के आपसी एकता और प्यार बना रहे इसको लेकर भी दुआएं की गई और यहां रहने वाले लोगो के लिए सुख शांति और उन्नति के लिये भी दुआ की गई। वही बरवाडीह प्रखंड के साथ-साथ अन्य दूसरे प्रखंड और जिले से आए लोगों ने शामिल होकर सभी ने हजरत शबीहे शाहे ज़िला सैयद शाह अहमद कादरी याद कर अपने और अपने की खुशहाली की दुआ मांगी।

कार्यक्रम के समापन के पूर्व मदरसा के पूर्व सदर मो. फयाज खाँ साहब के मंगलवार को मौत होने के बाद उनकी आत्मा की शांति के लिए मौजूद सभी लोगों ने एक साथ दुआ की। जिसके बाद मौजूद सभी लोगों के बीच प्रसाद का वितरण किया गया। मौके पर मौलाना खुशतर, मौलाना हाजी शमीम साहब, फिरोज अहमद (मुन्ना), गुलाम गोश, मुमताज खान, अख्तर खान, जावेद खान, गुलाम अंसारी, सरवर मुस्तफा, गोल्डन खान, अकरम खान, पप्पन खान, रिजवान खान, मुन्ना खान, मजहर हुसैन, शमी उल्लाह अंसारी समेत काफी संख्या में लोग मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...