पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

परेशानी:मनरेगा मजदूरों को नहीं मिल रही मजदूरी, भुखमरी की स्थिति

बरवाडीहएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बकाया मजदूरी को लेकर अपनी पीड़ा बयां करते मनरेगा मजदूर। - Dainik Bhaskar
बकाया मजदूरी को लेकर अपनी पीड़ा बयां करते मनरेगा मजदूर।

एक तरफ शहर से लेकर गांव तक कोरोना का महामारी छाया हुआ है। इसके कारण सेठ, साहूकार, महाजन से लेकर गांव के दिहाड़ी मजदूर परेशान हैं। इस महामारी में अधिकारी, नेता, ठीकेदार, सेठ-मजहाज तो अपना पेट चला ले रहे हैं, लेकिन यहां रोजाना कमाने-खाने वाले मजदूरों के पेट पर पहाड़ गिर रहा है।

आज गांव के लोग मनरेगा योजना में यह सोच कर काम कर रहे हैं कि पेट चलाने के लिए कुछ पैसा मिल जाएगा। पर दुर्भाग्य की बात है कि पूरे प्रखंड क्षेत्र में मनरेगा के तहत कई योजनाएँ चल रही है, जिसमे सैकड़ों मजदूर काम कर रहे है। लेकिन मनरेगा मजदूरों को अप्रैल माह में एक दिन की भी मजदूरी नहीं मिली है। हुकामाड़ पंचायत के ग्राम मुरु के रहने वाले मनरेगा मजदूर लोकभानी देवी, संजीता देवी, संजय सिंह, मालती देवी, जितेंद्र सिंह बताते हैं कि हम लोगों ने ग्राम मुरु निवासी नरेश सिंह के मनरेगा तहत डोभा कार्य निर्माण कार्य में काम किया था।

हम लोगों ने इस डोभा निर्माण कार्य में मार्च अंतिम से लेकर अप्रैल के प्रथम सप्ताह तक काम किया। लेकिन पैसा नही मिला। जिसके कारण हमलोगों ने मनरेगा का काम छोड़ कर अपने पेट को चलाने के लिए किसी के घर पर रोजाना दिहाड़ी पर काम करना शुरू कर दिया है। ज्ञात हो कि इस तरह की पीड़ा को मनरेगा के कुछ मजदूरों ने बयां तो कर दिया जिससे पता चलता है कि पूरे प्रखंड क्षेत्र में सैकड़ों मजदूर का लाखों रुपये बकाया होंगे।

इधर, इस संबंध में सामाजिक कार्यकर्ता कन्हाई सिंह ने कहा कि यह सरकार, जिला प्रशासन व प्रखंड प्रशासन की लापरवाही का कारण आज मनरेगा मजदूर योजना में काम करके भी भुखमरी की स्थिति में आ गए हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री, मंत्री, विधयक, डीसी, बीडीओ समेत अन्य सरकारी कर्मी अपना हर माह वेतन प्राप्त कर रहे हैं और मनरेगा मजदूर को भूखे मरने के लिए छोड़ दिये हैं।

उन्होंने कहा कि अगर 12 मई तक पूरे प्रखंड क्षेत्र के मनरेगा मजदूर को बकाया मजदूरी का पैसा नहीं दिया गया तो मजदूर अपना चूल्हा-चौकी, बाल-बच्चो के साथ प्रखंड कार्यालय के समक्ष धरना पर बैठने के लिए बाध्य हो जाएंगे। इस संबंध में बीडीओ राकेश सहाय ने बताया कि यह परेशानी पिछले 6 माह से हो रही है। इस तरह की परेशानी पूरे राज्य में है। इसकी पूरी जानकारी बीपीओ देंगे। आप बीपीओ से बात कर लें।

वहीं प्रभारी बीपीओ अनिल कुमार रवि ने बताया कि यह परेशानी मुझे पता है और इसके लिए लगातार जिला मनरेगा पीओ अभिमन्यु जी से बात हो रही है। जल्द ही सभी मनरेगा मजदूरों को बकाया मजदूरी का भुगतान कर दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...