पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना ने दिया जीवनभर का दर्द:महज 13 दिन के भीतर दो बेटियों के सिर से उठ गया माता-पिता का साया

बसिया14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • काेराेना ने हंसती खिलखिलाती नाबालिग बच्चियों काे अनाथ बना दिया, शोक में ग्रामीण

कोरोना संक्रमण ने न जाने कितने ही परिवारों की हंसती-खेलती दुनिया को उजाड़ दिया। किसी की जिंदगी में कोरोना ने ऐसी तबाही मचाई है कि जीवन भर अब वे इस दर्द को भुला नहीं पाएंगे। ऐसा ही एक मामला बसिया प्रखंड से सामने आया है। यहां दो मासूम बेटियां 17 वर्षीय नेहा टोपनो व 12 वर्षीय स्नेहा टोपनो के सिर से महज 13 दिनों के अंदर कोरोना ने उनके माता पिता का साया छीन लिया।

पिता सुगढ़ टोपनो व माता सुशांति टोपनो की दोनों बेटियों ने उन्हें बचाने की अथक प्रयास की लेकिन बचा नहीं सके। कोरोना ने उनके हंसते-खेलते जिंदगी को गमों के साए में धकेल दिया। अब दोनों बेटियां अनाथ जैसी जिंदगी जीने को विवश है। इस घटना के बाद मोहल्लेवासियों से लेकर रिश्तेदार तक हर कोई गम में है। दोनों बेटियों ने बताया कि उनके पिता सुगढ़ तोपनो 20 वर्ष पूर्व दिल्ली काम करने चले गए थे। जहां कुछ रुपए कमाने के बाद वे वापस गांव लौट कर शादी की। शादी के बाद फिर वे पत्नी को साथ लेकर दिल्ली चले गए।

खबरें और भी हैं...