पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

उपाय:ठनका जोन है भदानीनगर का पहाड़ी क्षेत्र दामिनी एप के प्रयाेग से बच सकती है जान

भदानीनगर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • हर बारिश में आसमान से बरसती है मौत, जागरुकता से ही हो सकता है बचाव

कहते हैं कि बरसात किसानों और मजदूरों के लिए खुशियों की सौगात लाता है। इस दौरान खेतों में वर्षा के मंगल गीत भी गूंजते है। लेकिन बीते कुछ वर्ष से अब मौत के विलाप के स्वर सुनने को भी मिलते है। ऐसा इसलिए कि भदानीनगर का ग्रामीण पहाड़ी क्षेत्रों में पिछले कई वर्षों से जानो-माल का नुकसान वज्रपात  होता रहा है।

 जिसके कारण कई लोगों घर के चिराग भी बुझ गए है। मानसून के आते ही भदानीनगर में वज्रपात की घटना से कई लोग झुलस जाते है या फिर उनकी जान चली जाती है। पिछले दो वर्षो से भदानीनगर क्षेत्र में वज्रपात की चपेट में आने से कई लोगों के मौत होने से घरों में अंधेरा छा गया है।

2018 के मई महीने में चैनगड़ा तुरी टोला में ठनका की चपेट से बिट्टू तुरी और राहुल तुरी की मौत हो गई थी। 2019 के 24 जुलाई को चिकोर गांव में ठनका से चुरामन महतो और पंकज महतो की मौत हो गई थी। साथ ही कई लोग घायल हुए थे। इसके अलावे  कई गांवों में मवेशी भी चपेट में आने मरे थे। इस वर्ष भदानीनगर में सोमवार को हुए वज्रपात से सुद्दी गांव में तीन युवक घायल हो गए थे। पेड़ के नीचे छिपने वाले बनते हैं ज्यादातर शिकार अक्सर देखा जाता है कि बरसात के दिनों में जब भी कोई वज्रपात की चपेट में आते हैं।

वे लोग पेड़ के नीचे छुपे होते है। बारिश से बचने के लिए लोग पेड़ के नीचे छुपते है। लेकिन उनका काल बन जाता है। चैनगड़ा में नीम पेड़ के नीचे, चिकोर में महुआ पेड़ के नीचे, सुद्दी में भी पेड़ के नीचे रहने वाले ही इसका शिकार बने थे। जागरुकता ही इसका बचाव है : वैज्ञानिक मौसम विभाग के वैज्ञानिक आशीष बलमुचू का कहना है कि वज्रपात से बचने के लिए जागरुकता ही इसका बचाव है। जब भी ठनका क्षेत्र में बारिश शुरू होने लगे तो सबसे पहले बाहर रह रहे लोग घरों में चले जाएं।

खेतों में काम करने वाले, धान रोपने वाले लोग काम छोड़कर घर चले जाएं या फिर छत वाले मकान में चले जाएं। पेड़ों के नीचे बारिश में नहीं जाए। क्योंकि ठनका का ज्यादा आकर्षण केंद्र  पेड़ हो जाते हैं। जिसपर ठनका गिर जाता है। दामिनी एप से मिल सकती है ठनका की जानकारी आशीष बलमुचू ने कहा कि वज्रपात की जानकारी के लिए भारत सरकार द्वारा बनाई गई दामिनी मोबाइल एप से इसकी जानकारी ले सकते है। इस एप से 20 मिनट पहले ही बता देगा कि आपके आसपास के क्षेत्रों में वज्रपात होने वाला है। जिससे लोग सुरक्षित स्थान में चले जायेंगे और इससे बचाव भी हो सकता है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा व्यवहारिक गतिविधियों में बेहतरीन व्यवस्था बनी रहेगी। नई-नई जानकारियां हासिल करने में भी उचित समय व्यतीत होगा। अपने मनपसंद कार्यों में कुछ समय व्यतीत करने से मन प्रफुल्लित रहेगा ...

    और पढ़ें