पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आक्रोश:भंडरिया में पुलिस हिरासत में व्यक्ति की में मौत, ग्रामीणों में आक्रोश; जांच की मांग

भंडरिया24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पूछताछ के लिए ले गई थी पुलिस,इलाज कराकर घर लाई

थाना क्षेत्र के ग्राम नौका टोला भुरकादोहर निवासी किरपाल मांझी उर्फ पाला मांझी उम्र 48 वर्ष की मौत रविवार की सुबह संदेहास्पद ढ़ंग से हो गई। पुलिस के द्वारा पूछताछ करने हेतु ले जाने के क्रम में पेट्रोल पंप के पास उसकी अचानक तबीयत खराब हो गई। पुलिस उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भंडरिया ले गई जहां चिकित्सकों के द्वारा इलाज करने के उपरांत उसे वापस घर भेज दिया गया। जहां रास्ते में उसकी मृत्यु हो गई।मृतक के भाई रामनंदन मांझी ने बताया कि रविवार की सुबह मेरे बड़े भाई जंगल से आ कर नाश्ता करने के बाद घर के पास ही बैठे थे। इसी क्रम में भंडरिया पुलिस दल बल के साथ पहुंच मेरे भाई को अपने कब्जे में करते हुए थाना ले आए। पूछने पर उन्होंने बताया कि पूछताछ के लिए थाना ले जा रहे हैं।

एक घंटे के बाद मेरे मोबाइल पर फोन आया तथा बोला गया कि आपके भाई की तबीयत खराब हो गई है, आप तुरंत अस्पताल पंहुचे। हम अपने भतीजे जागेश्वर मांझी के साथ अस्पताल पहुंचे तो देखा कि मेरे बड़े भाई पाला मांझी के मुंह से बेहोशी हालत में झाग निकल रहा है। अस्पताल में इंजेक्शन लगाया गया तथा कहा गया कि आप इसें घर ले जाइए एक घंटे बाद ठीक हो जाएगा। पुलिस वाहन से मेरे भाई को लाकर घर के पास ही बने चबुतरे में सुला दिया। देखा तो उसकी मौत हो चुकी थी।बात पूरे क्षेत्र में आग की तरह फैल गई बीडीओ विपिन कुमार भारती सूचना पाते ही मृतक के घर पहुंचें और मृतक के पुत्री सरिता कुमारी को कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय में नामांकन कराने व पुत्र को लालन पालन योजना के तहत प्रत्येक माह दो हजार रुपये दिलाने व आवास मुहैया कराने का आश्वासन दिया। तत्काल दो हजार दिए। काफी मशक्कत के बाद स्थानीय लोगों की मदद से पुलिस शव उठाने में सफल हुई। इंस्पेक्टर सह थाना प्रभारी लक्ष्मीकांत ने बताया कि भंडरिया कांड संख्या 34/ 21 में पूछताछ के लिए पाला मांझी को थाना लाया जा रहा था। रास्ते में ही पेट्रोल पंप के पास उसकी अचानक तबीयत खराब हो गया। अस्पताल ले जाया गया। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी विजय किशोर रजक ने कहा कि बेहोशी की हालत में मरीज को लाया गया था, मिर्गी का लक्षण था। मरीज के पुत्र के अनुसार पूर्व में भी मिर्गी का इलाज चला था।

खबरें और भी हैं...