विरोध / चंदवा :केंद्र की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ माकपा और झाराकिस का प्रदर्शन

Canopy: CPI-M and Jharakis protest against Center's anti-people policies
X
Canopy: CPI-M and Jharakis protest against Center's anti-people policies

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 07:30 AM IST

चंदवा. माकपा व झारखंड राज्य किसान सभा के संयुक्त बैनर तले शुक्रवार को केन्द्र की भाजपा सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शन के दौरान लोग सार्वजनिक उपक्रम एयरपोर्ट, कोयला खदान, बिजली का निजीकरण बंद करो, श्रम कानूनों में श्रमिक विरोधी संशोधन वापस लो आदि से संबंधित पोस्टर लिए हुए थे। ललन राम के नेतृत्व में हुए प्रदर्शन में माकपा के जिला सचिव सुरेन्द्र सिंह, झारखंड राज्य किसान सभा जिला अध्यक्ष अयूब खान और विभूति ने कहा कि केंद्र की भाजपा नेतृत्ववाली नरेंद्र मोदी सरकार अडानी, अंबानी सहित देश के पूंजीपति घरानों के हित में राष्ट्रीय संसाधनों और सार्वजनिक उपक्रमों यथा एयरपोर्ट, कोयला खदान, बिजली का निजीकरण करने की ओर अग्रसर है।
कोरोना की आड़ में केन्द्र सरकार द्वारा इस तरह के कठोर फैसले तब लिए जा रहे हैं, जब पूरा देश व पूरी दुनिया कोरोना महामारी का दंश झेल रहा है। सरकार के आर्थिक पैकेज से लोगों को सीधा राहत तो नहीं मिलेगी, लेकिन इससे उन्हें कर्ज की ओर धकेल दिया जाएगा। मध्यम वर्गों की सहायता के लिए सरकार ने इस पैकेज में कोई प्रावधान नहीं किया है।  दैनिक कार्य आठ घंटे से बढ़ाकर बारह घंटे कर दिया गया है। कॉरपोरेट और बिल्डर्स के पक्ष में उतर प्रदेश सरकार एक झटके में 38 कानूनों को अप्रभावी बनाने की कोशिश में लगी है, जो मानवाधिकारों के मूल सिद्धांतों के भी खिलाफ है।
प्रदर्शन के दौरान काम के 12 घंटे के प्रस्ताव को वापस लेने, छंटनी, वेतन भुगतान में कटौती और सेवा शर्तों में बदलाव को रोकने, सभी प्रवासी मजदूरों का निःशुल्क घर वापसी कराने, जरूरतमंदों को भोजन, आश्रय, रोजगार और स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने, औद्योगिक तथा सड़क हादसों एवं घर लौटने के दौरान जान गंवानेवाले शोक-संतप्त परिवारों को पर्याप्त मुआवजा देने, अगले तीन महीने तक आयकर नहीं देनेवाले सभी परिवारों के बैंक खाते में न्यूनतम साढ़े सात हजार रुपए प्रतिमाह व किसानों को लोन के बजाय नगद भेजने की मांग की गई।         

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना