अदालत:एडीजे-टू की अदालत ने पत्नी के प्रेमी की हत्या में पति और पत्नी को उम्र कैद की सजा सुनाई

चतरा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश द्वितीय कौशिक मिश्रा की अदालत ने बुधवार को हत्या के एक मामले में पति-पत्नी क्रमशः जशवंत सिंह व मीना देवी को उम्र कैद की सजा सुनाई। न्यायालय ने दोनों पति पत्नी पर 10-10 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है। यह राशि जमा नहीं करने पर अतिरिक्त तीन-तीन माह का सजा काटना पड़ेग। इस मामले में आरोप है कि पत्नी ने अपने प्रेमी को मिलने बुलाया था। रात में पत्नी को प्रेमी से मिलते हुए पति ने देख लिया।

इसके बाद पति ने पत्नी के प्रेमी को घटनास्थल पर ही टांगी से वार कर मौत के घाट उतार दिया। फिर दोनों ने मिलकर लाश को ठिकाने लगाने का प्रयास किया। अदालत ने इस चर्चित घटना की तेजी से सुनवाई करते हुए मात्र तीन साल में फैसला सनाई। दिलचस्प बात तो यह है कि यह घटना जिस करमा पर्व के दिन घटी थी, अदालत ने आरोपियों को घटना के तीन साल बाद करमा पर्व के दिन ही आरोप गठित किया था और बुधवार को जीतिया पर्व के दिन सजा सुनाई। मीना देवी पत्थलगड़ा थाना क्षेत्र के मारंगा करमा टांड की निवासी है।

वर्ष 2018 में मीना की शादी इटखोरी थाना क्षेत्र के सरहैता गांव के जशवंत सिंह भोक्ता के साथ हुई थी। उपरोक्त दोनों पति पत्नी पर पत्थलगड़ा थाना क्षेत्र के नावाडीह डमौल निवासी महेंद्र दांगी को टांगी से हमला कर हत्या करने का आरोप सिद्ध हुआ है। यह घटन 21 सितंबर वर्ष 2018 में करमा पर्व की रात करीब ग्यारह बजे हुई थी। इस मामले में मृतक के पिता खिरोधर महतो ने पत्थलगड़ा थाना कांड संख्या 49/2018 दर्ज कराया था।

पुलिस ने इस घटना के संबंध में अज्ञात लोगों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कर मामले का अनुसंधान शुरु किया। पुलिस ने मोबाइल ट्रेसिंग से घटना के आठ दिन बाद 29 सितंबर 2018 को महेंद्र दांगी के हत्यारे पति और उसके पत्नी को गिरफ्तार कर लिया था। इसमें मीना देवी ने पुलिस को बताया कि महेंद्र दांगी के साथ उसका प्रेम प्रसंग चल रहा था। मीना देवी ने पुलिस के समक्ष पति के साथ मिलकर अपने प्रेमी की हत्या करने की बात कबूल की थी। इस संबंध में अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश द्वितीय ने बताया कि मीना देवी रेजा का काम करती थी। इस दौरान महेंद्र दांगी के साथ उसका प्रेम प्रसंग चलने लगा। शादी के बाद मीना अपने ससोराल इटखोरी चली गई।

खबरें और भी हैं...