मांग / रिक्त पड़े चिकित्सकों के पद भरे सरकार : संघ

X

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:44 AM IST

चौपारण. चौपारण प्रखंड की जनसंख्या एक लाख 80 हजार के आसपास है। जहां मात्र एक एमबीबीएस चिकित्सक सामुदायिक अस्पताल चौपारण में प्रतिनियुक्त करने के बाद कार्यरत हैं। जबकि सामुदायिक अस्पताल में सात चिकित्सकों का पद है, जो कई माह से रिक्त पड़ा हुआ है। मुखिया संघ अध्यक्ष सह करमा पंचायत के मुखिया राजदेव यादव ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता, सांसद जयंत सिन्हा, विधायक उमाशंकर अकेला को पत्र लिखकर चौपारण में एमबीबीएस चिकित्सक के रिक्त पदों में चिकित्सक पदस्थापित करने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा कि अभी हजारों प्रवासी 26  पंचायतों के विभिन्न क्वारेंटाइन सेंटर में हैं। चिकित्सक के अभाव में कोई भी मेडिकल टीम उन श्रमिकों के जांच पड़ताल के लिए नहीं पहुंच पा रही है। बहुत सारे ऐसे भी श्रमिक हैं जो 15-16 दिनों से क्वारेंटाइन में हैं। इनमें कई मजदूर रेड जोन इलाके से भी लौटे हैं।  

प्रवासी मजदूरों को क्वारेंटाइन सेंटर में एसडीओ और बीडीओ के मौखिक आदेशानुसार आठ दिन में क्वारेंटाइन मुक्त करना है पर मेडिकल जांच की अभाव में 15 से 20दिन तक सभी प्रवासी मजदूर पड़े हुए हैं। जिससे प्रशासन पर अनावश्यक रूप से बोझ पड़ रहा है। समय-समय पर मेडिकल जांच नहीं हो पाना चौपारण प्रखंड के लिए खतरे की घंटी है। क्योंकि बीते शुक्रवार को करमा क्वारेंटाइन सेंटर से ही तीन मरीज कोरोना संक्रमित पाए गए। ऐसे में चौपारण प्रखंड सुरक्षित रहे इसके लिए एमबीबीएस डॉक्टर अति आवश्यक है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना