पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कार्रवाई:निमियाघाट में नकली शराब बनाने का भंडाफोड़

डुमरीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 5300 लीटर अवैध कच्चा स्प्रिट जब्त, उत्पाद विभाग ने की छापेमारी, नहीं हुई किसी की गिरफ्तारी

उत्पाद विभाग गिरिडीह की छापेमारी टीम ने निमियाघाट पुलिस के सहयोग से रविवार की देर रात प्रतापपुर स्थित एक बंद पड़े गोदामनुमा घर से 53 सौ लीटर अवैध कच्चा स्प्रिट और अन्य सामान बरामद किया। बरामद कच्चा स्प्रिट की कीमत लगभग चार लाख रुपए बताई जा रही है। छापेमारी के दौरान किसी की गिरफ्तारी की सूचना नहीं है। वहीं इस स्प्रिट से करीब 89 लाख रुपए मूल्य की नकली अंग्रेजी शराब का निर्माण होता। छापेमारी का नेतृत्व उत्पाद अधीक्षक सुधीर कुमार कर रहे थे।

बताया जाता है कि उत्पाद विभाग को सूचना मिली थी कि निमियाघाट थाना क्षेत्र के प्रतापपुर के बंद पड़े पत्थर खदान के समीप स्थित एक गांदामनुमा घर में जीटी रोड से गुजरने वाले टैंकरों से कच्चा स्प्रिट काट कर बड़ी मात्रा में जमा किया गया है और इसके धंधेबाज इस कच्चा स्प्रिट को बाहर भेजने के फिराक में हैं। सूचना पर उत्पाद अधीक्षक सुधीर कुमार के नेतृत्व में विभाग के अन्य पदाधिकारी और जवानों ने निमियाघाट पुलिस के सहयोग से उक्त घर पर छापा मारा। जिस समय विभाग की टीम वहां पहुंची उस समय घर पर ताला बंद था और वहां कोई नहीं था। छापेमारी टीम जब ताला तोड़कर घर के अंदर गयी तो वहां 35-35 लीटर के 150 जार में करीब 53 सौ लीटर कच्चा स्प्रिट सहित कैरामेल कैमिकल, दर्जनों खाली जार व 20-20 लीटर वाले पानी के जार, टैंकर से स्प्रिट निकालने की मशीन मिला। टीम बरामद सामानों को जब्त कर गिरिडीह ले गई। इस संबंध में पूछे जाने पर उत्पाद अधीक्षक ने बताया कि छापेमारी में 53 सौ लीटर कच्चा स्प्रिट मिला व अन्य सामान मिला है। बरामद स्प्रिट का व्यवसायिक मूल्य लगभग 4 लाख रुपया है। विभाग धंधेबाजों सहित घर और जिस जमीन पर घर बना है वह किसके नाम से जांच कर रही है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

    और पढ़ें