राहत / रंका व गढ़वा में 31% अधिक धान की खरीदारी

31% more paddy purchase in Ranka and Garhwa
X
31% more paddy purchase in Ranka and Garhwa

दैनिक भास्कर

May 30, 2020, 05:00 AM IST

गढ़वा. गढ़वा के स्थानीय विधायक सह राज्य के पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री मिथिलेश ठाकुर के प्रयासों से इस बार न सिर्फ गढ़वा में बल्कि पूरे राज्य में रिकार्ड धान क्रय किया गया है। गढ़वा में भारतीय खाद्य निगम ने मेराल, रंका और गढ़वा धान क्रय केन्द्रों में पिछले वर्ष की तुलना में 31 प्रतिशत अधिक धान की खरीदारी की। विदित है कि मंत्री मिथिलेश कुमार ठाकुर ने राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, राज्य के खाद्य आपूर्ति मंत्री रामेश्वर उरांव तथा राज्य के मुख्य सचिव से व्यक्तिगत रूप से मिलकर भारतीय खाद्य निगम द्वारा धान क्रय हेतु निर्धारित तिथि 30 अप्रैल 2020 को बढ़ाकर 15 मई 2020 करने का आग्रह किया था। तब जाकर राज्य सरकार और खाद्य आपूर्ति विभाग ने भारत सरकार से समन्वय स्थापित कर 15 दिनों का अवधि विस्तार धान क्रय करने के लिए दिया। इसका लाभ गढ़वा के किसानों ने तो उठाया ही साथ ही राज्य के सभी जिले के किसानों को भी इसका लाभ मिला।

गढ़वा के सभी धान केन्द्रों में पिछले वर्ष से अधिक धान की खरीद हुई। पिछले वर्ष रंका में 21284.40, मेराल में 25651.20 तथा गढ़वा में 39652.40 क्विंटल धान खरीद की गई थी जबकि इस वर्ष लाॅकडाउन में भी मंत्री के प्रयास के कारण रंका में 33440.40, मेराल में 27927.60 तथा गढ़वा में 64831.20 क्विंटल धान की खरीद की गई है साथ ही इस वर्ष लाभ पाने वाले किसानों की संख्या भी पिछले वर्ष के किसानों से अधिक है। गढ़वा जिला में वित्तीय वर्ष 2019-20 में 5106 किसानों से 366239.60 क्विंटल धान की खरीद की गई जबकि पिछले वर्ष 2018-19 में 3711 किसानों से 279109.60 क्विंटल धान की खरीद की गई थी। मंत्री ने कहा कि हेमंत सरकार आने के बाद बिचैलियावाद खत्म करने की दिशा में कदम बढ़ाया गया है ताकि किसानों को उनका हक मिल सके।

जल्द कर दिया जाएगा किसानों काे भुगतान
मंत्री ने प्रतिनिधिमंडल के लोगों को बताया कि किसानों को भुगतान करने की प्रक्रिया चल रही है। इस संबंध में भारतीय खाद्य निगम के अधिकारियों को निर्देश दे दिये गये हैं। सात से आठ दिनों में सभी किसानों को उनकी उपज का भुगतान कर दिया जायेगा। इस वर्ष किसानों को 1815 रू0 प्रति क्विंटल न्यूनतम समर्थन मूल्य मिलेगा और साथ में 185 रू0 प्रति क्विंटल बोनस के रूप में मिलेगा। मंत्री ने कहा कि विरासत में मिले खाली खजाना और लॉकडाउन के बावजूद हेमंत सरकार किसानों को बोनस दे रही है। मंत्री ने बताया कि पड़ोसी राज्य छत्तीसगढ़ एवं झारखंड को छोड़कर किसी अन्य राज्य ने अभी तक किसानों को बोनस देने की घोषणा नहीं की है। कुल मिलाकर 2000 रू0 प्रति क्विंटल झारखंड के किसानों को मिलेगा।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना