पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

शिक्षकों ने शुरू की अनूठी पहल:कोरोना ने छात्रों को स्कूल से किया दूर, शिक्षक गांव-गांव घूम लगा रहे क्लास

गढ़वा13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • ऑनलाइन शिक्षा से बच्चों को हो रही कठिनाइयों को देखते हुए गढ़वा जिले के दो सरकारी शिक्षकों ने शुरू की अनूठी पहल

कोरोना महामारी ने छात्र छात्राओं को विद्यालय से दूर कर दिया है। महामारी के कारण विद्यालय बंद होने से बच्चे विद्यालय आकर शिक्षा ग्रहण नहीं कर पा रहे हैं। हालांकि शिक्षा विभाग द्वारा ऑनलाइन पढ़ाई की व्यवस्था की गई है। मगर बच्चों को ऑनलाइन शिक्षा के माध्यम से पर्याप्त जानकारी नहीं मिल पा रही है। साथ ही शिक्षकों के समक्ष अपनी कठिनाइयों के बारे में नही बता पा रहे हैं। ऐसे में रामा साहू उच्च विद्यालय के विज्ञान शिक्षक सुशील कुमार व 10 +2 उच्च विद्यालय मेराल के इतिहास व राजनीति शास्त्र विषय के शिक्षक आलोक कुमार ने अनूठी पहल की है। दोनों आपस मे सगे भाई हैं।

रामा साहू उवि के विज्ञान शिक्षक सुशील विद्यालय के पोषक क्षेत्र में रहने वाले बच्चों के गांव जाकर उन्हें शिक्षा प्रदान कर रहे हैं। इस अनूठी पहल से बच्चों का उत्साह चरम पर है जिन बच्चों को विज्ञान विषय में कठिनाई हो रही है। शिक्षक सुशील उनके गांव जा रहे हैं तथा शारीरिक दूरी व नियमों का पालन करते हुए बच्चों को विज्ञान की समुचित जानकारी दे रहे हैं। इससे पहले सुशील कुमार ने बच्चों को पढ़ाने के लिए अपने विद्यालय के प्रधानाध्यापक आशुतोष कुमार झा से इसकी अनुमति ली थी।

कई बच्चों के पास स्मार्टफोन नहीं, इसलिए गांव जाकर पढ़ा रहे : आलोक

10+2 उच्च विद्यालय मेराल के शिक्षक आलोक कुमार लॉकडाउन लगने के बाद से ही पोषक क्षेत्र लातदाग, गोंदा, बाना, रेजो, लखेया आदि गॉंव में जाकर बच्चों को पढ़ाने का कार्य कर रहे हैं। आलोक कुमार कहते हैं कि वे अपने विद्यालय के पोषक क्षेत्र के सभी गॉवो में क्रमबद्ध तरीके से जाकर शिक्षा दान करने की पूरी कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि गॉंव में घूम कर कक्षा का संचालन इसलिए करना पड़ रहा है की विद्यालय के पोषक क्षेत्र के बच्चों के ज्यादातर अभिभावक अत्यंत निर्धन हैं। साथ ही बहुत बच्चों के पास स्मार्टफोन नही है।

ऑनलाइन पढ़ाई के विकल्प के रूप में शुरू किया : बच्चों के पास स्मार्टफोन नहीं होने से सरकार के डीजी साथ कार्यक्रम के तहत दिए गए निर्देश को पालन कराने में असुविधा हो रही है। ऐसे में बच्चों की पढ़ाई की आवश्यकता को महसूस करते हुए उन्होंने विकल्प के तौर पर बच्चों को अलग-अलग गॉंवों में जाकर पढ़ाना सुनिश्चित किया। आलोक कुमार कहते हैं कि विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य अजीत कुमार समेत अन्य शिक्षकों का भी सहयोग मिल रहा है।

10 से 15 बच्चों की टोली बना करा रहे पढ़ाई

शिक्षक सुशील कुमार बताते हैं कि गांव के 10 से 15 बच्चों की टोली बनाकर शारीरिक दूरी व नियमों का पालन करते हुए पढ़ाई कराई जा रही है। कोरोना में सभी शैक्षणिक संस्थान बंद कर दिए गए हैं। परंतु, विभागीय आदेशानुसार सभी विद्यालयों को गैर शैक्षणिक कार्य सम्पादित करने हेतु खोलने का आदेश जारी किया गया है। तभी उनके मन में विचार आया कि क्यों नहीं विद्यालय में नामांकित बच्चों के गांव टोले में जाकर मुख्य विषय विज्ञान को पढ़ाया जाए। प्रधानाध्यापक आशुतोष झा ने उनकी योजना को सुनने के बाद अनुमति दे दी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन पारिवारिक व आर्थिक दोनों दृष्टि से शुभ फलदाई है। व्यक्तिगत कार्यों में सफलता मिलने से मानसिक शांति अनुभव करेंगे। कठिन से कठिन कार्य को आप अपने दृढ़ विश्वास से पूरा करने की क्षमता रखे...

और पढ़ें