जांच शुरू:पीएम आवास के लाभूक से दूसरी किस्त की राशि भुगतान के लिए रिश्वत की मांग

खरौंधी20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

प्रखंड के मझिगावां निवासी प्रधानमंत्री आवास लाभूक नरेश पासवान से स्वयंसेवक सत्येंद्र राम पर दुसरे किश्त की राशि के भुगतान के एवज में रिश्वत मांगने का आरोप लगाया है। लाभुक का आरोप है कि आरोपी द्वारा पूर्व में अवैध रुप से घूस लेने के बाद भी दोबारा फिर दूसरी किस्त का भुगतान के लिए और पैसे मांगे जाने लगे। जिसके बाद लाभुक ने बीडीओ से शिकायत की है।

स्वयंसेवक के पैसे मांगने से प्रधानमंत्री आवास लाभुक नरेश पासवान ने इतना परेशान था कि उसने प्रखंड कार्यालय पहुंच कर अपनी समस्या को लेकर बीडीओ गणेश महतो से शिकायत करते हुए रो पड़ा ।कहा कि मैं बेहद ही गरीब हूं । प्रधानमंत्री आवास का लाभूक हूँ । हमारे नाम पर वितीय वर्ष 2020 - 21 में प्रधानमंत्री आवास मिला था। जिसका पहला किस्त के लिए स्वयं सेवक सत्येंद्र राम से जियो टैग कराने गया। जिसमे स्वयं सेवक सत्येंद्र राम के द्वारा पांच हजार रुपया लिया गया था तब जाकर जियो टैगिंग किया गया।पांच हजार रुपये एक महाजन से ब्याज पर लेकर स्वयं सेवक को दिया । तब जाकर प्रधानमंत्री आवास का पहला किस्त 40 हजार रुपये खाता मे आया।

उक्त राशि से डोर लेबल तक आवास का निर्माण कराया । पैसा घटने पर जब दूसरा किस्त के लिए जियो टैगिंग कराने के लिए स्वयंसेवक सत्येंद्र राम के पास गया तो उन्होंने कहा कि अगला किस्त का पैसा डालने के लिए पांच हजार रुपये और देने पड़ेगें, नहीं तो दूसरा किस्त का पैसा आपके खाता मे नहीं आ पाएगा। उसने कहा कि स्वयं सेवक का बात सही हुआ और अभी आवास का दूसरा किस्त पैसा नहीं आया। जबकि अन्य लोगो का पैसे उसके खाता में चला गया। इससे मेरा प्रधानमंत्री आवास का निर्माण कार्य बंद है। नरेश पासवान ने बताया कि हमारे पास घर बनाने के अलावे और जमीन भी नहीं है कि उसे बेचकर घूस का पैसा दे सकूं।

उन्होंने स्वयं सेवक सत्येंद्र राम पर कारवाई करते हुए घुस का पैसा वापस दिलाने एवं प्रधानमंत्री आवास का दूसरा किस्त का भुगतान करने की मांग की है।इधर आवास के लाभूकों का शिकायत सुनने के बाद बीडीओ गणेश महतो ने उनके आवेदन को प्रधानमंत्री आवास के प्रखंड समन्वयक असर्फी राम को फार्वर्ड करते हुए जांचोपरांत कारवाई करने का निर्देश दिया है ।

खबरें और भी हैं...