पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

दुर्गोत्सव:पाबंदियों में मां दुर्गा की पूजा, उत्साह से भरे हैं श्रद्धालु

गढ़वा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • महामारी में दुर्गा पूजा की बाजार पड़ी फीकी, हिदायत कड़ी है पर श्रद्धा भी अपार है, कलश स्थापना के लिए श्रद्धालु पूरी तरह तैयार

दुर्गा पूजा हिंदू समुदाय का यह सबसे बड़ा समारोह और उत्सव है। 10 दिन तक चलने वाली इस पूजन उत्सव शामिल नहीं होती है। हमारा भारत त्योहारों और उत्सवों का देश है। देश का हर समाज समुदाय अलग-अलग त्यौहार पर मनाया जाता है। देश के हर समाज में परंपरागत और सांस्कृतिक का गहरा रंग है। तथापि दुर्गा पूजा दशहरा का अलग महत्व है। देश का एक बड़ा भाग श्रद्धा और उत्साह से सराबोर हो जाता है। पर 2020 का दुर्गा पूजा का दशहरा कई मामलों में अलग से दिखाई नजर आ रहा है। कोरोना से सब कुछ बदल दिया है। राज्य सरकार ने इस बार दुर्गा पूजा को लेकर एडवाइजरी जारी कर दी है। कई पाबंदियां घोषित की है। जिले में दुर्गा पूजा की तैयारी अंतिम चरण पर हो गई है। कलश स्थापना के के लिए श्रद्धालु पूरी तरह से तैयार है। जिला में दुर्गा पूजा समिति के तहत लगभग छोटे बड़े सभी समितियां तैयार है। समिति ने सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन भी करते नजर आ रहे हैं। इधर मां गढ़ देवी धार्मिक न्यास गढ़वा ने मां दुर्गा की प्रतिमा की स्थापना को लेकर मां गढ़ देवी मंदिर के प्रांगण में बैठक आयोजित की गई।

जिसमें जिले में कोविड-19 को लेकर राज्य सरकार के द्वारा जारी दिशानिर्देश का पालन करते हुए इस वर्ष मां गढ़ देवी मंदिर धार्मिक न्यास गढ़वा में दुर्गा पूजा महोत्सव का आयोजन किया जाएगा। यह निर्णय धार्मिक न्यास एवं दशहरा पूजा समिति के संयुक्त बैठक में ली गई है। बैठक में यह निर्णय लिया गया है। कि इस वर्ष कोविड-19 को देखते हुए निम्न बातों पर ध्यान रखना अति आवश्यक है। क्योंकि कोविड-19 बीमारी का इलाज नहीं है। बीमारी से बचाव एक ही उपाय है। सावधानी इसका इलाज है। मास्क पहनकर मंदिर के अंदर प्रवेश करना, शारीरिक दूरी का पालन करना, सेनेटाइजर होकर ही माता का दर्शन करना, इसके साथ यह निर्णय लिया गया है। कि इस वर्ष मंदिर में कन्या पूजन , बली पूजन, मुंडन इत्यादि पूजन का आयोजन नहीं होगी। एवं महा दीपदान एवं दुर्गा पाठ श्रद्धालु अपने अपने घर पर ही करेंगे। सिर्फ इस वर्ष मंदिर प्रांगण में माता का दर्शन मात्र होगा। इस वर्ष मंदिर में नारियल फोड़ने पर भी प्रतिबंध लगाया गया है। बैठक में उपस्थित अध्यक्ष गढ़ देवी मंदिर धार्मिक न्यास पूर्व मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी, सचिव अंचलाधिकारी गढ़वा, कोषाध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह, ईश्वर सागर, विनोद जायसवाल, कंचन साहू, जगजीवन बघेल, मुन्ना मोबाइल, नितेश कुमार, राजेश विश्वकर्मा, अरविंद पटवा, अरविंद केसरी, जय पटवा, चिंटू पटवा, कृष्णा केसरी, पवन कुमार, रवि केसरी, सुधीर सिंह, राज कुमार, आशीष, उमेश केसरी, संदेश संस्कार, शंभू केसरी, पंकज केसरी, मृत्युंजय, अनिल बघेल, शैलेंद्र चंद्रवंशी, गुड्डू मिस्त्री आदि लोग उपस्थित थे।

हिदायत कड़ी है और श्रद्धा भी अपार है : पूजा समिति के पदाधिकारियों ने कहा कि मूर्तियों की लंबाई भी घटा दी गई है। जिला के समिति परेशान है कैसे होगा क्या होगा। समिति के पदाधिकारियों ने कहा कि हम सरकार के साथ हैं। वायरस को हर हाल में रोकना है। पर श्रद्धा और भावना को कैसे रोकेंगे। भोग के बिना देवी माँ की पूजा कैसी होगी। देवी पूजा में भोग अपरिहार्य है। पहले देवी माँ की भोग लगता है। फिर श्रद्धालु में बढ़ता है। इस पर पाबंदी आवत कर दी गई है। पर देवी को भोग लगाए बिना अनुष्ठान कैसे पूरे होंगे। वायरस के फैलाव को रोकने निहायत जरूरी है। समिति के पदाधिकारियों ने कहा कि हालात क्या है। क्या कर रहा है। करा रहा है आम दिनों की बात हवा हो गई है। वरना पूजा के 1 माह पहले से ही जिला में विशाल और भव्य पंडाल बनाने के लिए कारीगर जुट जाते थे। लेकिन शहर में दुर्गा पूजा पंडालों की चर्चा इस वर्ष सुनने को नहीं मिल रही है। इस बार कुछ बदला बदला है वायरस को लेकर पाबंदी और रियायत का दौर जारी है। ऐसे में राज्य में कैसी होगी दुर्गा पूजा कैसा होगा उत्साह बना हुआ है। कोरोना महामारी को लेकर बाजार पड़ी फीकी: दुर्गा पूजा को लेकर पूजा सामग्री दुकानों में इस वर्ष कोरोना वायरस बीमारी को लेकर बाजार काफी फीकी पड़ी है। यहां तक की नवरात्रि पूजा की कलश स्थापना होने से 2 दिन पहले ही पूजा सामग्री दुकानों में श्रद्धालुओं की भीड़ लग जाती थी। मगर इस वर्ष कोविड-19 बीमारी की वजह से बाजार बिल्कुल फीकी पड़ी हुई है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज ग्रह स्थितियां बेहतरीन बनी हुई है। मानसिक शांति रहेगी। आप अपने आत्मविश्वास और मनोबल के सहारे किसी विशेष लक्ष्य को प्राप्त करने में समर्थ रहेंगे। किसी प्रभावशाली व्यक्ति से मुलाकात भी आपकी ...

और पढ़ें