मांग / कोरोना योद्धा को पीपीई किट उपलब्ध कराए सरकार : भानु

Government to provide PPE kit to Corona warrior: Bhanu
X
Government to provide PPE kit to Corona warrior: Bhanu

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

गढ़वा. भाजपा विधायक भानु प्रताप शाही ने कहा कि राज्य सरकार सभी कोरोना कर्मियों को कोरोना वायरस से सुरक्षा को लेकर पीपीई किट उपलब्ध कराई। जिससे कोरोना वायरस की जंग में दिन-रात अपनी सेवाएं दे रहे ये कोरोना कर्मी खुद को सुरक्षित महसूस करते हुए निर्भीक होकर काम सकें। उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि पिछले दिनों जिले के एक क्वारेंटाइन सेंटर से 14 कोरोना संक्रमित मरीज पाए गए हैं। ऐसे में उक्त क्वारेंटाइन सेंटर को संचालित कर रहे मुखिया, सफाई कर्मी, स्वास्थ्य कर्मी, चिकित्सा कर्मी आदि भी उनके संपर्क में आए होंगे। फलतः ऐसे लोगों में जाहिर तौर पर संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा होगा। ऐसे में उक्त सभी लोगों को पीपीई किट आवश्यक रूप से उपलब्ध कराना जरूरी है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार से फंड के अभाव में उपायुक्त/बीडीओज/मुखियाओं आदि को कोरोना वायरस से बचाव को लेकर आवश्यक संसाधन/व्यवस्था संचालन में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।
ऐसे में उन्होंने जिला प्रशासन को खुद से हस्तगत किए 25 लाख रुपए क्वारेंटाइन सेंटरों में समुचित व्यवस्थाएं करने, कोरोना कर्मियों को प्रोटेक्शन उपकरण उपलब्ध कराने व अन्य आवश्यक व्यवस्थाओं आदि में खर्च करने का आग्रह  किया है। साथ ही इस कार्य में अन्य जनप्रतिनिधियों से भी सहयोग की अपील की। इस दौरान उन्होंने इस अव्यवस्था को लेकर राज्य सरकार को जिम्मेवार मानते हुए सवालिया लहजे में कहा कि बजट सत्र के दौरान सदन में कोरोना महामारी को लेकर 200 करोड़ रुपए का अप्रूवल दिया गया था। लेकिन उक्त रुपए आज तक इस महामारी के खिलाफ जंग लड़ रहे जिलों/प्रखंडो/पंचायतों को क्यों नहीं दिया गया। 
ऐसे में जिले के उपायुक्त जिलों में सिर्फ आपदा से प्राप्त मिनिमम राशि से कितना बेहतर संसाधन जुटा पाएंगे विचारणीय प्रश्न है। उन्होंने कहा कि जिले के उपायुक्त, बीडीओज मुखिया पर दबाव बनाकर काम चलाया जा सकता है। लेकिन इस महामारी से सफलतापूर्वक जंग नहीं जीता जा सकता। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस को लेकर  सदन द्वारा बजट में प्रावधानित राशि को लेकर जब विभिन्न फोरम पर आवाज उठाई गई तब जाकर दबाव में आई राज्य सरकार द्वारा 100 करोड़ राशि की स्वीकृति दी गई। लेकिन वह राशि भी अब तक जिले/प्रखंड/पंचायत को अप्राप्त है।
उन्होंने महामारी व फ्रंटलाइन फाइटर्स के रूप में कार्य कर रहे अनुबंध पर कार्यरत सभी चिकित्सा कर्मियों, सफाई-कर्मियों व अन्य अनुबंध कर्मियों को समय पर वेतन/ मानदेय देने की बात करते हुए कहा कि कमांडो नामक आउटसोर्सिंग कंपनी द्वारा सफाई कर्मियों की अनुबंध पर नियुक्ति की गई थी। लेकिन इस महामारी में लड़ रहे उक्त लोगों को विगत एक वर्ष से मानदेय नसीब नहीं हुआ है। उन्हें मानदेय दिलाने की शीघ्र आवश्यकता है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना