पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

परेशानी:नौकरी का लालच दे जमीन पर बना लिया स्वास्थ्य उपकेंद्र, 3 साल से लगा रहा चक्कर

बंशीधर नगर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • गरीब को उसी स्वास्थ्य केंद्र में गार्ड की नौकरी के लिए लालच देकर स्वास्थ्य केंद्र बनाया गया

सरकार आदिवासियों के लिए कई तरह के कल्याणकारी योजनाएं चलाती रहती है, लेकिन सरकार के कुछ अधिकारियों की मिलीभगत से अत्यंत गरीब भूमिहीन आदिवासी को भूदान यज्ञ कमेटी द्वारा मिली जमीन पर स्वास्थ्य उप केंद्र बनाने के लिए गरीब को उसी स्वास्थ्य केंद्र में गार्ड की नौकरी के लिए लालच देकर स्वास्थ्य केंद्र बनाया गया। जिसके बाद शिवप्रसाद उरांव काे एक साल तक गार्ड की नौकरी में भी रखा गया। उसके बाद उसे नौकरी से निकाल दिया गया। जिसके बाद वह 3 वर्षों से कार्यालयों का चक्कर लगा रहा है।

जिसके बाद से यहां सरकार भी मस्त है और अधिकारी भी। इसका खुलासा गरबांध पंचायत निवासी शिवप्रसाद उरांव ने अनुमंडल पदाधिकारी जयवर्धन कुमार को दिए आवेदन के बाद हुआ। आवेदन में अत्यन्त गरीब शिव प्रसाद ने लिखा है कि वर्ष 2016 में सरकार द्वारा मिली जमीन पर स्वास्थ्य उपकेंद्र बना दिया गया। इसके एवज में उसे उसी स्वास्थ्य उपकेंद्र में गार्ड की नौकरी देने का वादा किया गया। शिवप्रसाद उरांव बताते हैं कि मुझे भूदान यज्ञ कमेटी द्वारा 0.88 डिसमिल भूमि प्राप्त थी। जब गांव में स्वास्थ्य उपकेंद्र स्वीकृत हुआ तो गांव में कहीं भी भूमि प्राप्त नहीं हो रही थी। जिस पर स्वास्थ्य उपकेंद्र का निर्माण हो सके। उस समय के तत्कालीन पदाधिकारी तथा विभाग के लोगों ने मुझे कहा कि तुम भूमि दो तुम्हें इस स्वास्थ्य उपकेंद्र पर गार्ड की नौकरी दी जाएगी। इसी लालच में उसने कुल भूमि में से 0.12 डिसमिल स्वास्थ्य उपकेंद्र बनाने के लिए दे दी। इतना ही नहीं जब केंद्र बन गया तो उसे एनजीओ द्वारा 1 वर्ष तक गार्ड के रूप में रखा गया उसके एवज में एनजीओ के द्वारा तनख्वाह भी दी गई।

परंतु 1 वर्ष के बाद उसे हटा दिया गया और उसके जगह दूसरे को रख लिया गया। उसने कहा कि यह सब मेरे साथ अन्याय हैं। शिवप्रसाद उरांव ने बताया कि मैं पिछले 3 साल से पदाधिकारियों के कार्यालयों का चक्कर लगा रहा हूं। शिवप्रसाद ने कहा मैंने डीसी को आवेदन दिया था, जिसके बाद डीसी ने नोडल पदाधिकारी अपर समाहर्ता गढ़वा के द्वारा असैनिक शल्य चिकित्सक एवं मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी गढ़वा को कार्रवाई के लिए पत्र दिया था। नोडल पदाधिकारी ने भूमि संबंधित रिकॉर्ड की मांग की थी, तब अंचल पदाधिकारी नगर उंटारी ने इसकी जांच किया तो सत्य पाया गया। शिवप्रसाद उरांव ने कहा कि मैं अपना परिवार किसी तरह से गुजर बसर कर रहा हूं। उसने कहा कि मेरी मजबूरी को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य उपकेंद्र पर गार्ड के रूप में बहाल किया जाए। जिससे मैं अपना परिवार का भरण पोषण कर सकू। इस संबंध में पूछे जाने पर अनुमंडल पदाधिकारी जयवर्धन कुमार ने कहा कि इस मामले में उपाधीक्षक अनुमंडलीय अस्पताल को पत्र भेजा गया है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी भी लक्ष्य को अपने परिश्रम द्वारा हासिल करने में सक्षम रहेंगे। तथा ऊर्जा और आत्मविश्वास से परिपूर्ण दिन व्यतीत होगा। किसी शुभचिंतक का आशीर्वाद तथा शुभकामनाएं आपके लिए वरदान साबित होंगी। ...

    और पढ़ें