पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लम्बित अवधि का बकाया:शिक्षकों की समस्याओं का जल्द समाधान नहीं किया गया तो चरणबद्ध आंदोलन : शिक्षक संघ

गढ़वा9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पेयजल मंत्री से मिला शिक्षक संघ का प्रतिनिधिमंडल, बताई लंबित समस्याएं

झारखंड राज्य माध्यमिक शिक्षक संघ जिला इकाई गढ़वा के जिलाध्यक्ष सुशील कुमार ने संघीय उपाध्यक्ष डॉ कृष्ण कुमार यादव ,सक्रिय शिक्षक अभिषेक सिंह व मन्त्री प्रतिनिधि(शिक्षा विभाग) के साथ पेयजल मंत्री मिथिलेश कुमार ठाकुर से मिला। माध्यमिक शिक्षकों की विभिन्न प्रकार की समस्याओं की जानकारी दी।

इस अवसर पर जिलाध्यक्ष सुशील कुमार के द्वारा बताया गया कि पदस्थापन के एक माह बीत जाने के बाद भी वर्तमान जिला शिक्षा पदाधिकारी के द्वारा शिक्षकों का किसी भी प्रकार का लम्बित कार्य जैसे 09 मार्च 2019 से लम्बित अवधि का बकाया वेतन भुगतान, लगभग 400 शिक्षकों का सेवा पुस्तिका का संधारण, सेवा सम्पुष्टि करना,अतिथि शिक्षकों का बकाया मानदेय भुगतान करना,वरीय शिक्षकों का प्रवरन वेतनमान देना आदि नहीं किया जा रहा है।

सिर्फ सकारात्मक आश्वासन के साथ टाल मटोल कर हम शिक्षक प्रतिनिधियों को बरगला दिया जाता है। इससे त्रस्त होकर हमसभी शिक्षक मंत्री जी से गुहार लगाने आए हुए हैं। उन्होंने कहा कि विगत दो वर्षों से लम्बित बकाए वेतनादि का भुगतान हेतु उच्चाधिकारियों से आदेशपत्र प्राप्त हो जाने,शिक्षा स्थापना समिति के द्वारा अनुमोदित हो जाने व आवश्यक राशि उपलब्ध होने के बाद भी जिला शिक्षा पदाधिकारी गढ़वा के द्वारा नहीं किया जा रहा है।विगत डेढ़ वर्षों से लगभग शिक्षकों की 400 सेवा पुस्तिका कार्यालय के बक्से एवं आलमिरे में बंद पड़ा हुआ है। हमसभी शिक्षकों की सेवा दो वर्ष से अधिक हो जाने के बाद भी सेवा सम्पुष्टि की प्रक्रिया प्रारंभ नहीं की जा सकी है।

लगभग तीन वर्षों से लम्बित 250 अतिथि शिक्षकों का सारी प्रक्रिया पूर्ण होने के पश्चात भी बकाया मानदेय का भुगतान तक नहीं किया जा रहा है।लगभग दो वर्षों से वरीय शिक्षक गण अपने प्रवरन वेतनमान हेतु कभी जिला शिक्षा पदाधिकारी कार्यालय तो कभी उपायुक्त कार्यालय का चक्कर लगा रहे हैं। फिर भी उन्हें न्याय नहीं मिल रहा है।समस्त उत्क्रमित शिक्षकों का ससमय उपस्थिति विवरणी कार्यालय को उपलब्ध कराने के बावजूद भी नियमित मासिक वेतन का भुगतान नहीं किया जा रहा है।

इन सारी समस्याओं से कई बार पूर्व के व वर्तमान जिला शिक्षा पदाधिकारी को अवगत कराया जा चुका है।लेकिन सिर्फ सकारात्मक आश्वासन देकर हम शिक्षकों एवं शिक्षक प्रतिनिधियों को बरगलाने का कार्य पूर्व व वर्तमान जिला शिक्षा पदाधिकारी के द्वारा किया जा रहा है।इस नकारात्मक कृत्य से हमसभी शिक्षक गण परेशान हो चुके हैं।भविष्य में कोरोना को लेकर गाइड लाइन का पालन करते हुए चरणबद्ध आंदोलन करने हेतु बाध्य हो सकते हैं।

खबरें और भी हैं...