पलायन / 20 दिनों में अब तक 9207 मजदूर यूपी बाॅर्डर हाेकर आ चुके हैं गढ़वा

कतार में खड़े दूसरे राज्यों से लौटने वाले मजदूर। कतार में खड़े दूसरे राज्यों से लौटने वाले मजदूर।
X
कतार में खड़े दूसरे राज्यों से लौटने वाले मजदूर।कतार में खड़े दूसरे राज्यों से लौटने वाले मजदूर।

  • दूसरे राज्यों से आ रहे मजदूरों के कारण कोरोना से जंग में बढ़ गई हैं चुनौतियां, गढ़वा में 40 एक्टिव केस, 7 मजदूर ठीक हो जा चुके घर

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

बंशीधरनगर. कोरोना को लेकर देश में जारी लॉकडाउन में मजदूरों के लौटने का सिलसिला जारी रहने एवं कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा होने के कारण कोरोना की जंग में प्रशासनिक अधिकारियों की चुनौतियां बढ़ती जा रही हैं। हालांकि जिले में 7 मरीज ठीक हो चुके हैं, एक्टिव केस मात्र 40 ही बचे हैं। इससे पूर्व  रेड जोन से लौटे मजदूरों में अचानक कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद से जहां प्रशासनिक महकमे में हड़कंप मचा हुआ है, वहीं शहर के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों में दहशत का माहौल व्याप्त है। यहां बताते चलें कि 2 से 22 मई तक दूसरे प्रदेशों से यूपी बॉर्डर पार कर झारखंड के विभिन्न जिलों के लगभग 9207 प्रवासी मजदूर वापस लौट चुके हैं। जिसमें गढ़वा के 3467, पलामू के 1291, लातेहार के 225, चतरा के 177, हजारीबाग के 196, लोहरदगा के 35, गुमला 71, सिमडेगा के 53, पूर्वी सिंहभूम के 9, पश्चिम सिंहभूम के 86, सरायकेला के 36, खूंटी के 61, रांची 85, रामगढ़ 53, गिरिडीह 622, देवघर 192, दुमका 186, कोडरमा 43, धनबाद 86, बोकारो 89, साहेबगंज 135, गोडा 557, पाकुड़ 1361, जामताड़ा 24 एवं अन्य 67 मजदूर शामिल हैं। उपरोक्त सभी मजदूरों को श्री बंशीधर नगर के महदेईया में स्थित निर्माणाधीन जेल में बने नियंत्रण कक्ष में स्क्रीनिंग के बाद प्रदेश के दूसरे जिलों के मजदूरों को उनके गृह जिलों में भेज दिया गया है। साथ ही साथ महाराष्ट्र, सूरत, गुजरात जैसे रेडजोन से लौटे लगभग सवा दो सौ स्थानीय प्रवासी मजदूरों का सैंपल लेकर उन्हें प्लस टू हाईस्कूल एवं महदेईया में स्थित निर्माणाधीन जेल में 14 दिनों के लिये सरकारी क्वारंटाईन सेंटर में रखा गया है। कुछ संदिग्ध मजदूर जिनकी स्क्रीनिंग के बाद उनकी पर्ची पर स्पष्ट रूप से उन्हें सरकारी क्वारंटाईन में रहने की सलाह दी गई है। बावजूद वे सरकारी क्वारंटाईन में न रहकर होम क्वारंटाईन में बड़े आराम से रह रहे हैं तथा गांव में भ्रमण कर लोगों से गलबहियां कर रहे हैं। ऐसे में कोरोना संक्रमण का फैलाव हुआ तो आने वाले दिनों में स्थिति भयावह हो सकती है। जिसका खामियाजा आम अवाम के साथ साथ प्रशासनिक अधिकारियों को भी भुगतना पड़ सकता है। 
गढ़वा में अब तक मिल चुके हैं 47 कोरोना पॉजिटिव
उल्लेखनीय है कि गढ़वा जिले में अब तक कुल 47 मरीज कोरोना पॉजिटिव पाये गये हैं। जिनमें तीन मरीजों के स्वस्थ होने के बाद उन्हें घर भेज दिया गया है। जबकि शेष सभी लोगों को मेराल स्थित कोविड अस्पताल में रखा गया है। उधर कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या में वृद्धि होने के बाद जिला प्रशासन के निर्देश पर श्री बंशीधर नगर में दो स्थानों ट्रॉमा सेंटर एवं महदेईया में स्थित निर्माणाधीन जेल में कोविड अस्पताल बनाया गया है। अस्पताल में सभी आवश्यक तैयारी पूरी कर ली गई है। 
बीमार मजदूराें काे रखा जाता है क्वारेंटाइन सेंटर में : डाॅक्टर
मजदूरों की जांच कर रहे अनुमंडल अस्पताल के चिकित्सकों के अनुसार मजदूरों के स्क्रीनिंग के बाद ही उन्हें सरकारी या होम क्वारंटाईन सेंटर की सलाह दी जाती है। चिकित्सकों ने बताया कि जांच के दौरान किसी भी मरीज को बुखार, सुखी खांसी जैसे कोरोना के लक्षण पाये जाने पर उनका सैंपल लेकर क्वारंटाईन में रखने की सलाह दी जाती है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना