कोरोना / क्वारेंटाइन सेंटर में 145 मजदूर... दीवार फांद घूमते-फिरते हैं और फिर चले जाते हैं घर

145 workers in the Quarantine Center ... wall hangings and then go home
X
145 workers in the Quarantine Center ... wall hangings and then go home

  • भरनो हाई स्कूल क्वारेंटाइन सेंटर में सुरक्षा के लिए दो वृद्ध चौकीदार की ड्यूटी
  • बीडीओ-थानेदार का दावा : क्वारेंटाइन किए गए मजदूरों के दीवार फांद निकलने का सवाल ही नहीं
  • हकीकत : दीवार फांदते मजदूर की तस्वीर इन अधिकारियों का दावा झुठलाने के लिए काफी

दैनिक भास्कर

May 30, 2020, 05:00 AM IST

गुमला. भरनो के प्लस टू हाई स्कूल में बनाए गए क्वारेंटाइन सेंटर की सुरक्षा व्यवस्था दो वृद्ध चौकीदारों के भरोसे है। इस कारण वहां रहने वाले मजदूर अपनी मनमानी कर न सिर्फ दीवार फांद बाजार और प्रखंड इलाके में घूम-फिरकर वापस सेंटर में लौट रहे हैं। बल्कि अपने घर भी जा रहे हैं। ऐसे में वे अपने परिवार के अलावा अन्य लोगों के संपर्क में भी आकर संक्रमण को बढ़ावा देने का काम कर रहे हैं। ऐसे में यदि इन मजदूरों में कोई कोरोना पॉजिटिव आ गया, तो स्थिति क्या होगी। इसका अंदाजा आसानी से लगाया जा सकता है। इस मामले में भरनो बीडीओ विशाल कुमार व थाना प्रभारी अनिल गुप्ता ने दावा किया कि मजदूरों के दीवार फांद कर भागने का सवाल ही नहीं है।
जबकि क्वारेंटाइन सेंटर से दीवार फांदते मजदूरों की तस्वीर ही बीडीओ व थाना प्रभारी के दावे को झुठलाने के लिए काफी है। अब ऐसी स्थिति में सवाल है कि इतनी बड़ी लापरवाही के लिए जिम्मेवार कौन है। प्रखंड के ग्रामीणों का कहना है कि क्वारेंटाइन सेंटर के बाहर ही सब्जी मार्केट लग रही है। फिर भी मजदूरों के दीवार फांद आने-जाने का सिलसिला रोजाना जारी है। जिले में लगातार कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने के बावजूद भी भरनो में इस तरह की लापरवाही देखने को मिल रही है। जबकि कई बार प्रशासन को इसकी जानकारी दी गई लेकिन प्रशासनिक पदाधिकारी व पुलिसकर्मी इस दिशा में कुछ नहीं कर रहे हैं। ऐसे में ग्रामीणों में डर बना हुआ है। फिलहाल क्वारेंटाइन सेंटर में 145 प्रवासी मजदूरों को रखा गया है। 

दो सप्ताह पूर्व भागे मजदूर को खुद बीडीओ लाए थे सेंटर
ग्रामीणों ने बताया कि दो सप्ताह पूर्व इसी क्वारेंटाइन सेंटर से एक प्रवासी मजदूर दीवार फांद कर भाग गया और अपने घर दुंबो खक्सीटोली चला गया था। इसके बाद इसकी जानकारी बीडीओ विशाल कुमार को मिलने के बाद वे खुद खक्सीटोली गांव जाकर उस मजदूर को उसके घर से वापस सेंटर में लाने का काम कर चुके हैं। इसके बावजूद इस दिशा में कोई प्रयास न करना प्रशासन की विफलता को दर्शाता है।

 बीडीओ से तार घेरवाने की करूंगा मांग : थाना प्रभारी
इस संबंध में थाना प्रभारी अनिल कुमार गुप्ता ने कहा कि मजदूरों का दीवार फांद कर बाहर निकलने का सवाल ही नहीं है। वहां की सुरक्षा के लिए दो चौकीदार हमेशा तैनात रहते हैं। फिर भी अगर ऐसी बात है, तो मैं बीडीओ से बात करके दीवार में तार घेरवाने की मांग करूंगा, ताकि सुरक्षा व्यवस्था बनी रहे।

स्टाफ अच्छे से कर रहे काम मजदूरों का बाहर निकलना संभव नहीं : बीडीओ

बीडीओ विशाल कुमार से बात करने पर उन्होंने दीवार फांद कर क्वारेंटाइन सेंटर से मजदूरों के बाहर निकल कर घूमने-फिरने के मामला से साफ़ इंकार किया है। उन्होंने कहा कि एक बार एक मजदूर वहां से भाग कर अपने घर खक्सीटोली चला गया था।लेकिन बाद में उसे वापस क्वारेंटाइन लाया गया था। इधर का ऐसा कोई मामला मुझे मालूम नहीं है। वहां मजदूरों की देखरेख और सुविधा के लिए स्टॉफ को लगाया गया है। जो अच्छे तरीके से काम भी कर रहे हैं। मजदूरों का बाहर निकलना संभव ही नहीं है। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना