पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

सरना समिति और भीम आर्मी ने की नारेबाजी:सरना कोड पारित कराने के लिए 3 घंटे चक्का जाम, 45 लोग गिरफ्तार, बाद में किए गए रिहा

गुमला8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • चक्का जाम से वाहनों का परिचालन रुका, एसडीपीओ के समझाने पर भी नहीं माने लोग

विशेष सत्र बुलाकर सरना कोड पारित करने की मांग करते हुए गुरुवार को सरना समिति और भीम आर्मी भारत एकता मिशन ने गुमला बंद का आह्नान किया था। समिति भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं ने सुबह 6 बजे से 9 बजे तक चक्का जाम किया। इस दौरान टावर चौक पर प्रदर्शन भी किया। सरना कोड लागू करने की मांग से संबंधित तख्तियां लहराते हुए नारेबाजी की।

इस दौरान वाहनों का परिचालन रुका रहा। प्रदर्शन व यातायात प्रभावित होने की जानकारी के बाद एसडीपीओ मनीष चंद्र लाल व थानेदार शंकर ठाकुर टावर चौक पहुंचे और प्रदर्शनकारियों को समझाने का प्रयास किया। लेकिन वे अपनी मांगों को लेकर अडिग रहे।

बाद में सरना समिति के जिलाध्यक्ष हंदु भगत, भीम आर्मी के अध्यक्ष यदुनंदन नायक, महासचिव रूपेश सोनी, सचिव प्रकाश सोनी, उपाध्यक्ष गणेश राम, ललकू नायक, कमलेश पासवान, महादेव राम, अखिलेश राम, पवन राम, सूरज कुमार व राकेश कुमार ने गिरफ्तारी दी। सभी लोगों को सरकारी वाहन में बैठाकर थाना लाया गया। इधर बाद में सोसो मोड़ में भी प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों ने गिरफ्तारी दी। 45 लोगों को गिरफ्तार किया गया। जिन्हें शाम में थाना से छोड़ा गया।

पुलिस ने दिनभर की गश्त

सुबह में चक्का जाम होने के कारण सिसई रोड, पालकोट रोड, जशपुर रोड व थाना रोड का आवागमन पूरी तरह बाधित रहा। सड़क के किनारे वाहनों की लंबी कतार लगी रही। यात्री बसों में यात्री बैठकर जाम खुलने का इंतजार करते रहे।

बाद में यातायात सुचारू हाेने पर लोगों ने राहत की सांस ली। इधर चक्का जाम के कारण किसी अप्रिय घटना की आशंका काे लेकर पुलिस दिन भर शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में गश्ती करते देखे गए। समय-समय पर थाना प्रभारी सभी बीट प्रभारियों से दूरभाष पर स्थिति का जायजा लेते दिखे।

पैदल गिरफ्तारी देने थाना पहुंची महिलाएं

इधर सोसो मोड़ के समीप केंद्रीय सरना समिति की महिला जिला अध्यक्ष गौरी किंडो के नेतृत्व में महिलाएं दिन के 12:30 बजे से 1:30 बजे तक सड़क पर सरना कोड लागू करने को लेकर नारेबाजी करती रही। गौरी किंडो ने कहा कि सरकार आदिवासियों की भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर रही है। चुनाव के समय लंबी-लंबी वादे करती है और चुनाव जीतने के बाद सभी वादे को भूल जाते है।

इसके बाद सरकार कहती है कि आदिवासी हमारे भाई- बहन है। सरकार को हर हाल में सरना कोड लागू कर हम आदिवासियों को न्याय देना चाहिए। इसके बाद प्रशिक्षु आईपीएस सुभाषु जैन व थानेदार शंकर ठाकुर के नेतृत्व में जाकर प्रदर्शनकारियों को हटवाते हुए महिलाओं को गिरफ्तारी किया गया। सभी महिलाएं पैदल चलकर थाना पहुंची।

सरना कोड की मांग पर सरकार गंभीर नहीं

सरना समिति के अध्यक्ष हंदु भगत ने कहा कि सरना अनुयायियों की मांग है कि हेमंत सरकार विशेष सत्र बुलाकर सरना कोड को पारित करें और केंद्र सरकार को भेजे। गुमला में उनका कार्यक्रम सफल रहा है। सरना कोड की मांग बहुत पुरानी है। झारखंड सरकार इस पर गंभीर नहीं है। विशेष बैठक कर हेमंत सोरेन आदिवासियों के हित में सरना कोड लागू करें। ,

भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष यदुनंदन नायक ने कहा कि हेमंत साेरेन ने विधानसभा चुनाव के दौरान अपनी सूची में सरकार बनने के बाद सरना कोड लागू करने का वादा किया था। सरकार बने 10 माह बीत गए हैं। सरकार अभी तक आदिवासी भाई-बहनाें के हित में काम नहीं कर रही है। उन्होंने कहा कि जब तक सरना कोड लागू नहीं होगा। हम आंदोलन करते रहेंगे। सरकार को सरना कोड लागू करना होगा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपने विश्वास तथा कार्य क्षमता द्वारा स्थितियों को और अधिक बेहतर बनाने का प्रयास करेंगे। और सफलता भी हासिल होगी। किसी प्रकार का प्रॉपर्टी संबंधी अगर कोई मामला रुका हुआ है तो आज उस पर अपना ध...

और पढ़ें