पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

डीसी ने बैठक कर की योजनाओं की समीक्षा:खाता आधार से लिंक नहीं होने के कारण 50 प्रतिशत छात्र हैं छात्रवृत्ति से वंचित

गुमला14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बैठक में उपस्थित अधिकारी। - Dainik Bhaskar
बैठक में उपस्थित अधिकारी।

उपायुक्त शिशिर कुमार सिन्हा ने आईटीडीए अधिकारियों के साथ बैठक कर विभागीय योजनाओं की प्रगति की समीक्षा की । समीक्षा के दौरान पाया गया कि मात्र 50 प्रतिशत छात्रों को ही छात्रवृत्ति का लाभ दिया गया है। वहीं परियोजना निदेशक आईटीडीए द्वारा बताया गया कि कई छात्रों के आधार कार्ड लिंक नहीं होने के कारण छात्रों के खातों में छात्रवृत्ति राशि का हस्तांतरण नहीं किया जा सका है।

इसपर उपायुक्त ने नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि यह कार्य बी.डब्लू.ओ तथा प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारियों द्वारा संपादित किया जाना था, किंतु उनके द्वारा कार्यों के प्रति उदासीनता बरतने के के कारण अधिकतर विद्यार्थी छात्रवृत्ति से वंचित हैं।

उन्होंने परियोजना निदेशक को सभी छात्रों के बैंक खाता अविलंब आधार कार्ड लिंक कर शत-प्रतिशत छात्रों को छात्रवृत्ति का लाभ दिलाने का निर्देश दिया।बैठक में परियोजना निदेशक आईटीडीए इंदु गुप्ता, एसडीआ रवि आनंद व अन्य उपस्थित थे।

सरना, मसना स्थल घेराबंदी की 68 में 29 योजना अपूर्ण सरना-मसना स्थलों की घेराबंदी की अद्यतन स्थिति की समीक्षा में पाया गया कि कुल 68 योजनाओं में से 29 योजना अपूर्ण है। जिसमे वर्ष 2017-2018 में 25 कार्य अपूर्ण पाए गए। वहीं वर्ष 2018-19 में कुल 39 योजनाओं में से 05 कार्य ही पूर्ण है। 20 में कार्य प्रारंभ तथा 04 कार्य स्थगित पाए गए। वित्तीय वर्ष 2019-20 में कुल 15 योजनाओं में से 07 योजना पूर्ण है। उपायुक्त ने परियोजना निदेशक को लाभुक समिति के साथ बैठक कर सभी अपूर्ण कार्यों को यथाशीघ्र पूर्ण कराने का निर्देश दिया। साथ ही उन्होंने वित्तीय वर्ष 2018-19 में वैसे सभी स्थान जहाँ कार्य प्रारंभ नहीं हुआ वहां दूसरे लाभुकों का चयन करने तथा स्थगित किए गए कार्यों के स्थान पर नए कार्यों की स्वीकृति हेतु प्रस्ताव तैयार करने का निर्देश दिया।

शहीद ग्राम विकास योजना की समीक्षा की गई बैठक में उपायुक्त ने शहीद ग्राम विकास योजना के तहत चयनित ग्राम मुरगू एवं चिंगरी में आवास निर्माण योजना की समीक्षा की। डीसी ने जिले के जरूरतमंद व्यक्तियों एवं आदिम जनजातीय लोगों को प्राथमिकता देते हुए उन्हें योजना का लाभ दिलाने का निर्देश दिया। परियोजना निदेशक ने बताया कि द्वारा सिसई के मुरगू ग्राम में प्रथम फेज में 39 ईकाई व बिशुनपुर के चिंगरी ग्राम में 07 ईकाई तथा द्वितीय फेज में मुरगू ग्राम में 25 तथा चिंगरी ग्राम में 25 आवास का निर्माण कराया जा रहा है। जिसमें द्वितीय फेज में सिसई के मुरगू ग्राम में 25 में से 20 ईकाईयों तथा बिशुनपुर के चिंगरी ग्राम के सभी 25 ईकाईयों में आवास निर्माण का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। वहीं वित्तीय वर्ष 2018-19 में बिशुनपुर प्रखंड के चिंगरी ग्राम में 190 ईकाईयों में से 173 ईकाईयों में कार्य पूर्ण कर लिया गया है।

खबरें और भी हैं...