पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • Gumla
  • Administration Preparations To Deal With The Third Wave In The Final Stage, Oxygen Plant Ready, 500 Liters Of Oxygen Will Be Supplied Per Minute

कोरोना से सुरक्षा:तीसरी लहर से निबटने के लिए प्रशासन की तैयारी अंतिम चरण में, ऑक्सीजन प्लांट तैयार, प्रति मिनट 500 लीटर ऑक्सीजन की होगी सप्लाई

गुमला6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ऑक्सीजन प्लांट बनकर तैयार। - Dainik Bhaskar
ऑक्सीजन प्लांट बनकर तैयार।
  • सदर अस्पताल में 26 अतिरिक्त बेड का निर्माण

कोरोना की तीसरी लहर का असर सितंबर के अंतिम सप्ताह के बीच आने की संभावना है। तीसरी लहर का कहर खास कर बच्चों पर पड़ने की बात डॉक्टरों व एक्सपर्ट द्वारा कही जा रही है। मगर इसके लिए हम कितना तैयार हैं यह आने वाला समय ही बताएगा। तीसरी लहर को लेकर अभी से ही जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग द्वारा तैयारियां पूरी की जा रही है। जिससे हर संभावित स्थितियों से निपटा जा सके।

सदर अस्पताल के डीएस डॉक्टर आनंद कुमार उरांव से तीसरे लहर की संभावना और तैयारियों पर विस्तृत बात की। डीएस ने बताया कि विभाग द्वारा सभी तैयारी को अंतिम रूप दिया जा रहा है। तीसरे लहर को लेकर फिलहाल सदर अस्पताल परिसर में 26 अतिरिक्त बेड का निर्माण किया गया है। ऑक्सीजन प्लांट से सदर अस्पताल में 500 लीटर प्रति मिनट ऑक्सीजन जेनरेट कर सप्लाई की जाएगी।

गुमला में कोरोना के केस अभी शून्य, पर इसे बरकरार रखने के लिए सावधानी जरूरी

सदर अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट समेत 28 जम्बो, 100 छोटे सिलेंडर
डीएस ने बताया कि जरूरी स्वास्थ्य उपकरण व दवा पर्याप्त मात्रा में सदर अस्पताल में उपलब्ध है। अस्पताल परिसर में ऑक्सीजन प्लांट लगाया जा रहा है। जिसका सेड निर्माण का कार्य पूरा हो चुका है। पाइप लाइन का विस्तारीकरण कर लिया गया है। पाइपलाइन से सभी वार्ड को जोड़ा जा चुका है। 15 सितंबर के बाद डीआरडीओ द्वारा इसे चालू किए जाने की संभावना है। ऐसे अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट के अलावा 28 पीस जम्बो सिलेंडर व 100 पीस छोटा सिलिंडर है। अस्पताल में बनाया गया 26 बेड का वार्ड चाइल्ड फ्रेंडली है।

सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें, मास्क लगाएं लोग : डीएस
डीएस ने कहा कि जिले में कोरोना का मामला अभी शून्य है। मगर इसके बावजूद लोगों को सावधानी बरतने की जरूरत है। लोग पूर्व की भांति मास्क व सेनेटाइजर व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते रहे। खास कर दूसरे राज्यों जहां कोरोना के मामले है वहां से आने वाले लोगों से दूरी बनाकर रखे।

अभिभवकों को एहतियात बरतने की जरूरत

डीएस ने कहा कि कोरोना के संभावित तीसरे पीक को ध्यान में रखते हुए बच्चो के अभिभावकों को अभी से ही एहतियात बरतने की जरूरत है।अभिभावक बच्चों को भीड़ भाड़ वाले स्थान में ले जाने से बचे। जरूरी होने पर ही बच्चे व अभिभावक कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए बाहर निकले।

डीएस ने कहा कि वायरल सर्दी खासी व जुकाम कई राज्यों में तेजी से फैल रहा है। बच्चों में भी यह देखा जा रहा है। बच्चे के अभिभावकों को कोरोना जांच की सलाह दी जा रही है, मगर वे जांच से बच रहे है। यह गंभीर विषय है। ऐसी लापरवाही से बचने की जरूरत है।

डीएस ने कहा कि तीसरी लहर की संभावना को देखते हुए बच्चों को हेल्दी व ताजा खाना परोसा जाए। उन्हें ताजा फल फ्रूट जूस व अंडे दिए जाए।उन्होंने कहा कि जिन बच्चों का खान पान अच्छा है। उनमें कोरोना होने की संभावना कम है। परंतु जो बच्चे कमजोर व कुपोषित है। उन्हें ज्यादा खतरा है।

खबरें और भी हैं...