पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

परेशानी:नप सैनिटाइजेशन में लगा है, फॉगिंग भूला, अब तो डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया का भी डर

गुमलाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • शहर के वार्डों में मच्छरों का उत्पात बढ़ा, बीमार होने पर लोग हॉस्पिटल में नहीं जा रहे, चिकित्सक की सलाह पर ले रहे दवा

गुमला जिले में एक तरफ कोरोना का कहर जारी है, तो दूसरी ओर मच्छरों की तादाद बढ़ गई है। ऐसे में कोरोना महामारी के बीच नागरिकों को डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया जैसे मच्छर जनित बीमारियों का डर सता रहा है। मच्छर जनित बीमारियों के लक्षण भी कोरोना जैसे ही हैं। इसलिए कोई भी व्यक्ति हॉस्पिटल जाकर इलाज नहीं करा रहा है। लेकिन डॉक्टर की सलाह पर तबीयत बिगड़ने पर दवा ले रहा है। माना जा रहा है कि मच्छरों का प्रकोप बढ़ने के पीछे नगर परिषद की व्यवस्था जिम्मेवार है। क्योंकि नप मच्छरों को नहीं मार पा रहा है।

वैसे, तो नप द्वारा नियमित तौर पर गली-मुहल्लों में फॉगिंग करने के दावे किए जाते रहते हैं। लेकिन इस दावे की हवा मच्छर ही निकाल रहे हैं। शहर में लंबे समय से फॉगिंग का काम बंद है। इधर कोरोना संक्रमण का फैलाव तेज होता देख नप ने अपना सारा फोकस सैनिटाइजेशन पर कर दिया और शहर में फॉगिंग कराना भूल गया। इस वजह से नप के लगभग सभी वार्डों में मच्छरों की संख्या बढ़ने लगी और इससे बीमारियों का प्रकोप भी बढ़ने लगा है।

खबरें और भी हैं...