आरक्षण की व्यवस्था:टीकाकरण में तेजी की मांग पर विपक्षी दलों ने दिया धरना

गुमला2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कांग्रेस, झामुमो, राजद, सीपीआईएम, सीपीआई ने राज्यपाल के नाम डीसी को सौंपा ज्ञापन

कचहरी परिसर स्थित हड़ताली पेड़ के समीप कांग्रेस, झामुमो, राजद, सीपीआईएम, सीपीआई की अाेर से केंद्र सरकार के विरुद्ध संयुक्त रुप से धरना प्रदर्शन किया गया। धरना के दाैरान राष्ट्रपति के नाम उपायुक्त गुमला को ज्ञापन साैंपा गया। जिसमें मुख्यतः भारत मे वैक्सीन उत्पादन की क्षमता को बढ़ाने एवं टीकाकरण कार्यक्रम के अभियान में तेजी लाने, कोरोना काल में बेराेजगार हुए लाेगाें के साथ अपनी जान गंवाने वालाें के परिजनाें काे मुआवजा देने की मांग की गई है।

आयकर श्रेणी के दायरे से बाहर हैं उन्हें 7500रु. नगद भुगतान करें और दैनिक उपयोग के सभी वस्तुओं व भोजन की समुचित व्यवस्था करें, पेट्रोलियम पदार्थों व घरेलू गैस की बेतहाशा कीमत वृद्धि को नियंत्रित करें। तीन कृषि कानून को निरस्त करें और किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी दे।

माैके पर कांग्रेस जिला अध्यक्ष रोशन बरवा ने कहा कि देश को निजीकरण के मध्यम से निजी हाथों में सौंपने का काम किया जा रहा है। पारित कृषि कानून किसानों के लिए फांसी का फंदा है। पेट्रोलियम, रसोई गैस खाद्य सामग्रियों पर अपार मूल्य वृद्धि हो रहा है और सरकार चैन की नींद सो रही है।

राज्य में ओबीसी समाज के लोगों को 27 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था हो। गुमला में उद्योग लगे। धरना को भाकपा माले के गजेंद्र सिंह, सीपीआईएम के आलोइस मिंज, सीपीआई के बसंत गोप, झामुमो के रंजीत सिंह आदि ने संबोधित किया। मौके पर अफसर, अकिल रहमान, चुमनु उरांव, पतरस हीरो, आलोक टेटे सहित अन्य कार्यकर्ता थे। मंच का संचालन मुरलीमनोहर प्रसाद व धन्यवाद ज्ञापन पुष्पा लकड़ा ने किया।

खबरें और भी हैं...