पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

विकास पर फोकस:ग्रीन एरिया के रूप में डेवलप होगी पुग्गू नदी, इसके किनारे लगाए जाएंगे पौधे

गुमलाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ग्रीन एरिया के रूप में डेवलप होगी पुग्गू नदी। - Dainik Bhaskar
ग्रीन एरिया के रूप में डेवलप होगी पुग्गू नदी।
  • 3.89 करोड़ रुपए की 15 योजनाओं को दी गई मंजूरी
  • 15 शौचालयों का भी होगा नवीकरण, लोगों को मिलेगा इसका लाभ

गुमला नगर परिषद की ओर से शहरी क्षेत्र के नदी-नालों को ग्रीन एरिया के रूप में डेवलप किया जाएगा। इन जगहों पर पौधरोपण और सुंदरीकरण के साथ विकसित किया जाना है। इसके साथ ही जल संरक्षण की दिशा में कदम बढ़ाते हुए आठ सरकारी कार्यालयों व पब्लिक परिसर में रेन वाटर हार्वेस्टिंग की व्यवस्था की जाएगी। ताकि वर्षा के जल का संचय किया जा सके और जल के महत्व से नागरिकों को अवगत कराया जा सके। जिले का जलस्तर तेजी से नीचे जा रहा है। ऐसे में जल छाजन अति आवश्यक है। इसके अलावा साफ-सफाई संबंधी उपकरण खरीदारी, सामुदायिक शौचालयों का नवीकरण जैसे 15 कार्य किए जाएंगे। सभी कार्य 15वें वित्त आयोग की राशि से टाइड ग्रांट के तहत होंगे। पहले फेज में 3 करोड़ 89 लाख की योजनाओं को नगर विकास विभाग द्वारा 11 जून को स्वीकृति प्रदान की गई है। जल्द ही निविदा आमंत्रित कर कार्य को धरातल पर उतारने की प्रकिया आरंभ कर दी जाएगी।

टाइड व अनटाइड में बंटी है 15वें वित्त आयोग की राशि

ईओ रवि आनंद ने बताया कि 15वें वित्त आयोग की राशि को दो भागों टाइड व अनटाइड में बांटा गया है। टाइड में साफ-सफाई, पौधरोपण, जल संरक्षण आदि कार्यों को शामिल किया गया है। जबकि अनटाइड में सड़क, नाली, पुल-पुलिया, गार्डवाल जैसी योजनाएं शामिल है। टाइड के तहत साढ़े नौ करोड़ रुपए के काम होने हैं। इसमें शामिल 26 योजनाओं को स्वीकृति के लिए भेजा गया था। इसमें से पहले फेज में 3 करोड़ 89 लाख की 15 योजनाओं को मंजूरी मिली है। शेष कार्य दूसरे चरण में होंगे।

हरित क्षेत्र का विकास होने से रुकेगा नदी और नालों का अतिक्रमण

रेन वाटर हार्वेस्टिंग की व्यवस्था उपायुक्त कार्यालय, डीडीसी ऑफिस, एसडीओ ऑफिस, इलेक्शन ऑफिस, टाउन हॉल, इंडौर स्टेडियम, विकास कॉलोनी और बस पड़ाव में की जाएगी। वहीं काली मंदिर नदी से पालकोट रोड पुग्गू नदी व पुग्गू नदी पालकोट रोड से सिसई रोड तक, लोहरदगा रोड नाले के किनारे, सिसई रोड में बायीं तरफ संत पात्रिक स्कूल से पुग्गू नदी तक और जशपुर रोड में पीएई स्टेडियम के किनारे हरित क्षेत्र का विकास किया जाएगा। इससे नदी-नालों का अतिक्रमण भी रूकेगा।

डेढ़ करोड़ रुपए के खर्च से उपयोगी बनाया जाएगा सामुदायिक शौचालय

शहर में निर्मित अधिकांश सामुदायिक शौचालयों की स्थिति जीर्ण-शीर्ण है। रख-रखाव का अभाव व पानी व्यवस्था की कमी सहित अन्य कारणों से इनका उपयोग नहीं के बराबर है। इसके बावजूद 15 शौचालयों का नवीकरण किया जाना है। एक शौचालय नवीकरण में दस लाख यानी डेढ़ करोड़ की राशि शौचालय नवीकरण में खर्च की जाएगी। ईओ ने कहा कि नवीकरण के साथ ही शौचालय को उपयोगी बनाया जाएगा। ताकि सरकारी राशि का सदुपयोग हो सके।

खबरें और भी हैं...