गोवर्धन पर लिया गौरक्षा का संकल्प:गुमला में गोवर्धन पूजा कर गो माता की रक्षा करने का लिया संकल्प

गुमलाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गोवर्धन पूजा करते विहिप व बजरंग दल के लोग। - Dainik Bhaskar
गोवर्धन पूजा करते विहिप व बजरंग दल के लोग।

शहर के दुदंरिया सोसो मोड़ स्थित मां दुधेश्वरी धाम के प्रांगण में विश्व हिंदू परिषद व बजरंग दल के कार्यकर्ताओं द्वारा गोवर्धन पूजा के उपलक्ष पर विधि विधान के साथ गो पूजा की गई। मौके पर गो माता की रक्षा करने का संकल्प लिया गया। बजरंग दल के जिला संयोजक मुकेश सिंह ने कहा कि भगवान कृष्ण के अवतार के बाद द्वापर युग से प्रारम्भ हुई है। इसमें हिन्दू धर्मावलंबी घर के आंगन में गाय के गोबर से गोवर्धन नाथ जी की अल्पना बनाकर पूजन करते हैं। उसके बाद गिरिराज भगवान (पर्वत) को प्रसन्न करने के लिए उन्हें अन्नकूट का भोग लगाया जाता है। उन्होंने कहा कि भारत वर्ष में गाय को मां का दर्जा दिया गया है। सभी देवी देवता गौ माता के अंदर समाहित हैं, गौ माता की पूजा करने से सभी कष्ट दूर होते हैं। कहा कि गौशाला निर्माण को लेकर जिला प्रशासन अभी तक आश्वासन नहीं सका है। जिला प्रशासन की ओर से जल्द से जल्द गौशाला निर्माण नहीं कराया जाएगा तो बजरंग दल के कार्यकर्ता श्रमदान करते हुए गौशाला का निर्माण करेंगे। बजरंग दल हमेशा से गौ सेवा करता रहा है और हमेशा करता रहेगा। गौ सेवा ही सबसे बड़ी सेवा है हिंदू धर्म में गौ को मां का दर्जा दिया गया है। इसलिए गौ माता की सेवा के लिए बजरंग दल हमेशा सक्रिय है। मौके पर मुकेश सिंह, राकेश सिंह, यश राज सिंह, धर्मु गोप, हर्ष राज, प्रह्लाद प्रजापति, प्रमोद प्रजापति, पूजा कुमारी, शांति देवी सहित कई लोग उपस्थित थे।

बजरंग दल के जिला संयोजक बोले-गो माता की पूजा से दूर होते हैं कष्ट

गोवर्धन पूजा को लोग अन्नकूट पूजा के नाम से भी जानते हैं। दिवाली के अगले दिन गोवर्धन पूजा की गई। इस दिन गोवर्धन पर्वत, गोधन यानि गाय और श्री कृष्ण की पूजा का विशेष महत्व है। इसके साथ ही वरूण देव, इंद्र देव और अग्नि देव आदि देवताओं की पूजा का भी विधान है।

खबरें और भी हैं...