आज से धान की खरीद:जिले में 15000 किसानाें से धान की खरीदारी का है लक्ष्य, तीन दिनों में किसानों को किया जाएगा 50 प्रतिशत राशि का भुगतान

गुमलाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लैम्पस, जहां धान की होगी खरीद। - Dainik Bhaskar
लैम्पस, जहां धान की होगी खरीद।
  • पंजीकृत किसान से 200 क्विंटल तक खरीदा जाएगा
  • अब तक 10170 किसान निबंधित, किसानों को निबंधन के लिए प्रेरित किया जाएगा, लैंपस में धान बेचने से फायदा

गुमला जिले में पिछले वर्ष की भांति इस साल भी धान की बंपर पैदावार होने की संभावना है। यही कारण है कि राज्य सरकार ने भी पिछले खरीफ फसल वर्ष की तुलना में इस बार धान खरीद का लक्ष्य बढ़ा दिया है। बीते बार की परेशानियों से सबक लेते हुए उसके निदान के लिए भी व्यवस्था में बदलाव की गई है। धान खरीद में बिचौलियों की भूमिका पर लगाम लगाने के लिए राज्य सरकार ने इस वर्ष किसी एक किसान के नाम पर अधिकतम 200 क्विंटल धान खरीद का निर्णय लिया है।

डीएसओ गुलाम समदानी ने बताया कि किसानों से एक बार में 40 क्विंटल धान क्रय कर पार्ट बाय पार्ट धान बेचने का मौका दिया जाएगा ताकि मंझाेले किसानों को भी अपनी धान बेचने का अवसर प्रदान हो सके। उन्होंने बताया कि बुधवार से सभी लैंपस में धान खरीद शुरू हो जाएगी। जिले में 15000 किसानों को निबंधित करने का लक्ष्य है।

किसान परेशान न हों इसे ध्यान में रख 18 से बढ़ा कर 26 किए गए हैं लैंपस

डीएसओ ने बताया कि झारखंड सरकार ने ने इस वर्ष धान बेचने वाले किसानों का 50 प्रतिशत भुगतान तीन दिनों के भीतर करने का निर्णय लेकर बड़ी राहत दी है। उन्होंने बताया कि शेष भुगतान मील से उठाव के बाद किया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस बार धान की उपज बहुत अच्छी हुई है। फलस्वरूप अधिक किसान धान बेचेंगे और उन्हें ज्यादा दूरी धान लेकर जाना नहीं पड़े। इस बात का ख्याल रखते हुए विभाग ने वर्तमान में और 08 लैंपस को स्वीकृति दी है। पहले लैंपस की संख्या 18 थी, जो बढ़कर 26 हो गई है। इधर धान की अच्छी पैदावर से किसानों में उत्साह है।

गुमला जिले में डेढ़ लाख क्विंटल धान की खरीदारी का लक्ष्य है निर्धारित : डीएसओ

डीएसओ ने बताया कि 15 दिसंबर से धान की खरीदगी के लिए विभाग पूरी तरह से तैयार है। वित्तीय वर्ष 2020-21 में एक लाख क्विंटल धान खरीदने का लक्ष्य निर्धारित था। जिसकी तुलना एक लाख 27 हजार क्विंटल धान खरीदगी हुई थी। इस बार डेढ़ लाख क्विंटल धान खरीदने का लक्ष्य निर्धारित है। किंतु आकलन है कि लक्ष्य से अधिक धान की खरीदगी इस बार भी होगी। उन्होंने बताया कि अगले साल आठ हजार चार सौ 42 किसानों ने अपना रजिस्ट्रेशन कराया था। वहीं किसानों ने कहा कि उन्हें बिचौलोयों का चक्कर नहीं लगाना पड़ेगा।​​​​​​​

अन्नदाता उत्साहित आज से बेचेंगे धान

किसान बोले की धान बेचने के बाद पैसे के लिए भटकना नहीं होगा। समय पर भुगतान मिल जाएगा।

ऋण माफी योजना के लाभुकाें का ई-केवाईसी एक सप्ताह में जमा करें

बीटीएम आईटी पांडे ने किसान मित्रों पंचायत प्रतिनिधियों की बैठक अपने कार्यालय कक्ष में मंगलवार को की। बैठक में उपस्थित किसान मित्रों को ऋण माफी योजना के लाभुक 702 किसानों का ईकेवाईसी अपने पोषक क्षेत्रों से कार्यालय एक सप्ताह के अंदर जमा करने का निर्देश दिया, जिससे ऋण माफी के लाभुक किसानों को राज्य सरकार के ऋण माफी योजना से लाभान्वित किया जा सके। साथ ही बैठक में उपस्थित किसान मित्रों व जनप्रतिनिधियों को घाघरा प्रखंड के चार लैम्प्स आदर, चुंदरी बेलागड़ा एवं टाेटांबी में 15 दिसंबर से प्रारंभ होने वाले धान खरीद की जानकारी दी।

खबरें और भी हैं...