पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

होली पर्व:सेन्हा के बरही वासियों ने खेली मिट्‌टी-कादो व ढेला मार होली

सेन्हाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ढोल नगाड़ा बजाकर परंपरागत होली मनाते गांव के लोग। - Dainik Bhaskar
ढोल नगाड़ा बजाकर परंपरागत होली मनाते गांव के लोग।

प्रखंड के बरही गांव में सदियों से होली की एक अलग परंपरा चली आ रही है। होली की ऐसे तो कई परंपराएं मशहूर है परंतु बरही की होली लोहरदगा जिले में अनूठी परम्परा के लिए मशहूर है। यहां होली के दिन रंगोत्सव के बाद पूरे गांव के लोग अबीर खेलने के लिए ढोल, नगाड़ा, मांदर आदि पारम्परिक बाजा के साथ निकलते हैं और देवी मंडप के समीप मिलते हैं। जहां पर होलिका दहन किया गया था।

होलिका दहन में उपयोग किए गए अरंडी और शेमल के डाली को होलिका दहन के दिन जलाया जाता है और फगुवा काटने के बाद जो डाली जमीन में गड़ा रहता है। उसे उखाड़ने के लिए ही लोग अबीर के समय में देवी मंडप के समीप जुटते हैं और उस आधे बचे हुए डाली को उखाड़ने के लिए गांव के लोग दौड़ कर जाते हैं और पूरे गांव के लोग उनपर मिट्टी व कादो का ढेला चलाकर मारते हैं। परंतु किसी भी व्यक्ति को चोट नहीं लगती है।

इस वर्ष भी गांव के प्रबुद्धजनों व जिप सदस्य रामलखन साहू की अगुवाई में परंपरागत रूप से त्योहार आयोजित किया गया। इस तरह प्रखंड में कहीं कीचड़ होली तो कहीं कुर्ता फाड़ होली तो कहीं ढेला मार होली खेला गया। इस वर्ष बरही ग्राम में दामादों को एक सम्मान दिया गया। जिसे समाज के बुद्धिजीवी लोगों ने दामादों को पगड़ी और तौलिया देकर आदर के साथ होली पर्व मनाने में शामिल किया।

इस दौरान विधि व्यवस्था को लेकर प्रशासन चौकस रहा। प्रखंड के तोडार, आर्रु, सेन्हा, बरवाटोली, सीठियो, बरही सहित अन्य ग्रामीण क्षेत्रों में धूमधाम से शांति पूर्ण व सौहार्द के साथ लोग पर्व मनाया गया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आध्यात्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत होगा। जिससे आपकी विचार शैली में नयापन आएगा। दूसरों की मदद करने से आत्मिक खुशी महसूस होगी। तथा व्यक्तिगत कार्य भी शांतिपूर्ण तरीके से सुलझते जाएंगे। नेगेट...

    और पढ़ें