पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कृषि लाेन माफी:कृषि लाेन माफी का आज आखिरी दिन, 21% किसानों का हुआ ई-केवाईसी

गुमला2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मेन रोड स्थित एसबीआई की शाखा। - Dainik Bhaskar
मेन रोड स्थित एसबीआई की शाखा।

झारखंड कृषि लाेन माफी योजना का लाभ योग्य लाभुकों को 31 मार्च तक ही मिलना है। इसके पूर्व तक जिन ऋण धारक किसानों के खाता का ई-केवाईसी होगा। उन्हीं किसानों को इस योजना के तहत 50 हजार रुपए तक का लोन माफ होगा।

गुमला जिला में लोन माफी के योग्य किसानों की संख्या करीब 31357 है। किंतु अब तक कुल योग्य किसानों में से मात्र 6512 किसानों के खातों का ही ई-केवाईसी हुआ है। इस प्रकार 28 मार्च तक के आंकड़ों के अनुसार जिले में ऋणमाफी योजना से लाभान्वित होने वाले योग्य किसानों में मात्र 21 प्रतिशत किसानों का ही ई-केवाईसी हुआ है।

ऐसे में इस योजना के लाभ से बड़ी संख्या में किसान वंचित होंगे। उल्लेखनीय है कि इस योजना का लाभ केवल उन्हीं किसानों को ही मिलना था। जिन्होंने वर्ष 2020-21 में कर्ज लिया था और लोन का भुगतान नहीं कर पाया था। 2020 के पूर्व के ऋण धारक किसानों को इस योजना का लाभ नहीं मिलना था।

एकतरफा प्रशासनिक प्रयास से किसानों के ई-केवाईसी में गुमला चौथे स्थान पर

एक तरफ गुमला जिला कुल योग्य किसानों के ई-केवाईसी कराने में भले ही 21 प्रतिशत ही उपलब्धी हासिल की है, किंतु किसानों के कुल अपलोडेड डाटा में से ई-केवाईसी के आंकड़ों में बढ़ोतरी के कारण गुमला जिला का परफॉरमेंस राज्य के दूसरे जिलाें की तुलना में अच्छा है।

आंकड़ों के अनुसार गुमला जिला अप लोडेड किसानों के डाटा का 50 प्रतिशत ई-केवाईसी करके राज्य में चौथे स्थान पर है। गुमला जिला से बेहतर प्रदर्शन करने वाले जिलों में एक नंबर पर सिमडेगा है। जबकि दूसरे व तीसरे नंबर पर क्रमश: गिरिडीह और देवघर जिला का नाम है।

कृषि लोन लेने वाले किसानों ने भी नहीं दिखाई रूचि
ऋण माफी योजना को जिलास्तर पर मॉनिटर कर रहे जिला स्तरीय प्रशासनिक पदाधिकारी सुधीर कुमार गुप्ता ने बताया कि जिले में ऋणमाफी योजना का लाभ उठाने में किसानों ने भी विशेष रूचि नहीं दिखाई है। एकतरफा प्रयास से यह उपलब्धी हासिल हुई है। यदि किसान स्वयं से भी एक्टिव होकर अपने ऋण माफी को लेकर ईकेवाईसी के कार्यो को संपन्न कराते तो ऋण माफी योजना का लाभ उठाने वाले किसानों में गुमला जिला का प्रदर्शन और बेहतर होता।

गुमला जिला में धीमी गति से किया गया डाटा अपलोड

गुमला जिला के कुल योग्य किसानों में से एक चौथाई किसानों को भी ऋण माफी योजना का लाभ नहीं मिलने का प्रमुख कारण धीमी गति से डाटा अपलोड होना है। एक तरफ बैंक ने 31357 हजार से अधिक किसानों काे चिन्हित कर इस योजना से लाभान्वित होनेवाले किसानों की सूची बनाया। किंतु चिन्हित किसानों में से मात्र 13128 किसानों का ही डाटा अपलोड किया गया। जिनका डाटा अपलोड हुआ उन्हीं किसानों के खातों का ई-केवाईसी होगा और ऋण माफी योजना का लाभ मिलेगा।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

    और पढ़ें