ग्रामीण समाज कल्याण विकास:गर्भावस्था के दौरान सभी जांच जरूर कराएं : स्वर्णलता

हैदरनगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ग्रामीण समाज कल्याण विकास मंच मेदिनीनगर के तत्वावधान में ‘प्रेरणा’ के तहत हैदरनगर बाल विकास परियोजना के सभागार में ब्लड के आरएच फैक्टर पर एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया। प्रशिक्षण में परियोजना की सेविकाओं ने भाग लिया। इसमें ग्रामीण समाज कल्याण विकास मंच की सचिव स्वर्णलता रंजन व सहयोगी उदय प्रसाद ने सेविकाओं को प्रशिक्षण दिया।

प्रशिक्षण में मंच की सचिव स्वर्णलता रंजन ने कहा कि गर्भावस्था के दौरान अगर माता व अजन्मे शिशु में आरएच प्रोटीन फैक्टर रक्त में अलग-अलग होते हैं तो इसे आरएच विसंगति कहते हैं। उन्होंने कहा कि पहले गर्भावस्था के दौरान दूसरे बच्चे के स्वास्थ्य को सुरक्षित रखने और गर्भावस्था को सुरक्षित बनाने के लिए कुछ ऐसे निवारक उपाय किए जा सकते हैं। गर्भावस्था का शीघ्र पंजीकरण कराना, एमसीपी कार्ड में अपना ब्लड ग्रुप दर्ज कराना, प्रसव पूर्व चार सभी जांच कराना, डॉक्टर से नियमित परामर्श व संस्थागत प्रसव कराना ही सुनिश्चित करें।

प्रशिक्षक स्वर्णलता ने कहा कि आरएच फैक्टर एक वंशानुगत प्रोटीन है, जो लाल रक्त कोशिकाओं (आरबीसी) की सतह पर पाया जाता है। अगर किसी व्यक्ति के ब्लड में यह प्रोटीन होता है, तो कहा जाता है कि उसका आरएच फैक्टर पॉजिटिव है, वहीं अगर ब्लड में वह प्रोटीन नहीं है, तो यह आरएच निगेटिव होगा।

आरएच पॉजिटिव सबसे ज्यादा मिलने वाला आम ब्लड ग्रुप है। इस अवसर पर महिला पर्यवेक्षिका सीमा झा ने सभी सेविकाओं को निर्देश दिया कि अपने-अपने केन्द्र से जुड़ी गर्भवती महिलाओं को जरूरी जानकारी देकर प्रशिक्षण को सार्थक बनाएं।

खबरें और भी हैं...