पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

परेशानी:बिजली की आंख मिचौली से परेशान हैं हुसैनाबाद और हैदरनगर के लाेग

हैदरनगर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

हुसैनाबाद, हैदरनगर के विद्युत उपभोक्ताओं की नियति बन गयी है। वर्तमान स्थिति में न तो तेज आंधी है , न तो तेज बारिश और न ही ग्रीड/सबस्टेशन में मेंटेनेंस वर्क चल रहा है। फिर भी निर्बाध रुप से बिजली की आपूर्ति नहीं होना लोगों की परेशानी का सबब बन गया है। ग्रीड के बनने से लोगों की उम्मीदें बलवती हो गयी थीं कि यहां के लोगों को बिजली की समस्या अब नहीं रहेगी।

कुछ दिनों तक आपूर्ति काफी अच्छी रही, लेकिन वर्तमान में वैसी स्थिति नहीं है। कुछ लोगों की दलील भी रहती है कि सरकार सस्ती बिजली कब तक उपलब्ध करायेगी। बिजली की दर पहले से बढ़ी है, लेकिन स्थिति पूर्ववत है। भीषण गर्मी और बिजली की आंख-मिचौली से रात में लोगों के आंखों की नींद गायब हो गयी है। बच्चों के पढ़ने लिखने के समय ही बिजली नहीं रहती है जिससे पठन-पाठन पर भी प्रतिकूल असर पड़ रहा है।

बिजली की समस्या को लेकर राज्य के सीएम ने बैठक की थी। गहन मंथन के बाद उन्होंने आदेश दिया था कि राज्य में 24 घंटे उपभोक्ताओं को बिजली मिलनी चाहिए। इसमें किसी प्रकार की कोताही नहीं होनी चाहिये। स्थानीय विधायक कमलेश कुमार सिंह ने भी पिछले माह मेदिनीनगर परिसदन में बिजली विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक की थी और उन्हें निर्देश दिया था कि हुसैनाबाद-हरिहरगंज क्षेत्र में निर्बाध बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित करें।

किन्तु बिजली की उपलब्धता सबस्टेशन और ग्रिड में रहने के बाद भी आंख-मिचौली का खेल जारी रहता है। मंगलवार की रात हैदरनगर चौकड़ी सबस्टेशन से पूरे हैदरनगर प्रखण्ड क्षेत्र की विधुत आपूर्ति को बंद कर दिया गया। पूरे रात हैदरनगर प्रखंड वाषी प्रचंड उमस भरी गर्मी में रतजगा कर बिताने को विवश हो गए। इस संबंध में चौकड़ी सबस्टेशन में कार्यरत बिजली कर्मियों ने कहा कि मंगलवार की देर रात कुछ दबंग लोग आकर बिजली को बंद करा दिए।

लोगों का कहना था कि यह सबस्टेशन हमलोगों के जमीन में है। जिस कारण पूर्ण रूप से बिजली बंद कर दिया गया। इस संबंध में बिजली कर्मियों ने कहा कि रात में ही इसकी सूचना हमलोग हैदरनगर थाना को देना चाहा तो किसी पुलिसकर्मियों के द्वारा फ़ोन रिसीव नही किया गया। आखिर हम विधुतकर्मी कैसे सुरक्षित रह सकते हैं। इस संबंध में अवर प्रमंडल जपला के कनीय विद्युत अभियंता प्रदीप कुमार ने बताया कि पर्याप्त बिजली नहीं मिलने के कारण ही बीच-बीच में विभिन्न फीडरों में बिजली ट्रिप करती है। पचम्बा ग्रिड में पर्याप्त बिजली रहने के बाद सभी फीडरों में निर्बाध बिजली की आपूर्ति की जाती है।

खबरें और भी हैं...