पदस्थापना की मांग:अधौरा में करोड़ों की लागत से बना उपस्वास्थ्य केंद्र, पर डाॅक्टर नहीं

हैदरनगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • इलाज के लिए भटक रहे ग्रामीणों में आक्रोश, आंदोलन की दी चेतावनी

पंसा पंचायत अंतर्गत अधौरा गांव में करोड़ों खर्च कर बनाया गया उपस्वास्थ्य केंद्र में चिकित्सक नहीं हैं। ग्रामीण बताते हैं कि अस्पताल का निर्माण हुए कई वर्ष बीत गए लेकिन यहां पर कोई चिकित्सक नहीं आता। कुछ चिकित्सकों की प्रतिनियुक्ति भी की गई तो वे हैदरनगर मुख्यालय में ही रहकर अपनी प्रैक्टिस करते हैं। उप स्वास्थ्य केंद्र अधौरा में कोई स्वास्थ्यकर्मी भी आना पसंद नहीं करता।

ग्रामीणों ने कहा कि यह ग्रामीण क्षेत्र है जहां 30 हजार से अधिक की अबादी रहती है। यहां से हैदरनगर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की दूरी भी लगभग 12 किमी से अधिक है। अगर किसी की अचानक तबीयत खराब हो जाए तो उन्हें अस्पताल पहुंचाने के लिए काफी परेशानी होती है। ग्रामीणों ने यह भी बताया कि कई बार चिकित्सक की पदस्थापना कराने की मांग लिखित रूप में पलामू के उपायुक्त व पलामू सिविल सर्जन सहित अनुमंडल अस्पताल के उपाधिक्षक से की गई। लेकिन अबतक अधौरा उपस्वास्थ्य केंद्र में चिकित्सकों की व्यवस्था नहीं की गई।

अधौरा गांव के ग्रामीण कृष्ण मुरारी सिंह, राजेंद्र साव, अवध बिहारी सिंह, लक्षुमण साव, गुड्डू चौधरी, कामेश्वर सिंह सहित कई ग्रामीणों ने बताया कि अगर अविलंब चिकित्सक की व्यवस्था नहीं की गई तो इसके लिए ग्रामीण सड़क पर उतरकर आंदोलन को बाध्य होंगे।

ग्रामीणों ने कहा कि सरकार के निर्देश पर अस्पताल बनाने में करोड़ों खर्च किए गए, जिसका लाभ ग्रामिणों तक नहीं पहुंचना बहुत ही बड़ी विडंबना है। उन्होंने कहा कि मोहम्मदगंज प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के अलावा चौकड़ी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, झरी उपस्वास्थ्य केंद्र का निर्माण भी हुआ है लेकिन चिकित्सकों की व्यवस्था नहीं रहने के कारण शोभा का वस्तु बन गया है।

खबरें और भी हैं...