पुलिस को नहीं मिला सबूत / 35 दिन बाद भी केरेडारी के त्रिलोकी साव हत्याकांड में पुलिस को नहीं मिला सुराग

X

  • 19 अप्रैल को चपरी जंगल के मुहाने से मिला था शव, बड़कागांव थाना में दर्ज है प्राथमिक

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

हजारीबाग.  केरेडारी के त्रिलोकी साव हत्याकांड का खुलासा 35 दिन गुजर जाने के बाद भी नहीं हो सका। हत्या की प्राथमिकी बड़कागांव थाना में कांड संख्या  54/20 के तहत दर्ज है।  त्रिलोकी साव को 18 अप्रैल की शाम उसके घर केरेडारी से उठाया गया था और 19 अप्रैल को उसका शव बड़कागांव थाना क्षेत्र के चपरी जंगल स्थित मुहाने से बरामद किया गया था। त्रिलोकी साव की हत्या गोली मारकर की गई थी। एक गोली उसकी कनपटी में मारी गई थी और एक गोली पेट में मारी गई थी। इस घटना के बाद जांच शुरू हुई  और बहेरा के वसीम नामक युवक को हिरासत में लिया गया। पुलिस  पूछताछ में उसने कबूल किया कि जिस सिम से त्रिलोकी साव के मोबाइल पर फोन किया था वह सिम और मोबाइल उसका छह महीने पहले गुम हो गया था  किंतु किसी थाने में उसने इसकी इंट्री नहीं कराई थी। छह महीने बाद उसी सिम से त्रिलोकी साव को अंतिम बार फोन किया गया और फिर से उसे बंद कर दिया गया। पुलिस और हिरासत में लिए गए युवक का यह लॉजिक किसी को पच नहीं रहा है।  इस कांड के आइअाे ने मृतक की पुत्री को यहां तक कह दिया कि तुम्ही ने अपने फोन से किसी से बात की होगी। पुलिस अनुसंधान के इस तरीके से मृतक के परिजन हैरान हैं और लज्जित महसूस कर रहे हैं। मृतक त्रिलोकी साव के पुत्र विजय साव ने बताया कि पुलिस ने इस तरह का सवाल कर हम लोगों को न सिर्फ लज्जित किया बल्कि हमलोगों को अपमानित भी किया। एक तो पिता की हत्या का गम ऊपर से पुलिस का ऐसा सवाल हम लोगों को परेशानी में डाल दिया है। अब हम लोग उच्च अधिकारियों के पास इसकी शिकायत करेंगे और इंसाफ की गुहार लगाएंगे।  विजय साव ने कहा कि बड़कागांव पुलिस सही तरीके से अनुसंधान करती तो अब तक हत्यारा पकड़ में आ जाता।
अनुसंधान जारी, लोगों से हो रही पूछताछ : भूपेंद्र 
एसडीपीओ इस मामले में बड़कागांव  के एसडीपीओ भूपेंद्र प्रसाद राऊत ने कहा कि अनुसंधान अभी जारी है। कई लोगों से पूछताछ की गई है। बहुत जल्द हम किसी नतीजे तक पहुंच जाएंगें।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना