अपील / ईद में इंसानियत की हिफाजत की दुआ करें सभी : डॉ. जमाल

X

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

हजारीबाग. माह-ए-रमजान अब हमारे बीच से रुख्सत होने वाला है। अल्लाह ने अपने बंदों को यह महीना बेहतरीन तोहफे की शक्ल में अता किया है। पाक रमजान में जहां इंसान सब्र करना सीख जाता है और आपसी रिश्तों में भी मजबूती आती है ।  इस महीने की बरकत से रूहानी और जिस्मानी फायदा इस तरह मिलता है कि इंसान का अपनी गलत इच्छाओं पर काबू पा कर एक खुशगवार जिंदगी की तरफ चलना सीखता है । उक्त बातें संत कोलंबा कॉलेज के यूजी हेड डॉ. जमाल अहमद ने कही। उन्होंने कहा  क आज पूरी इंसानियत एक दर्दनाक दौर से गुजर रही है। कोरोना महामारी लॉकडाउन से कई परिवारों का रोजगार छिन गया, जिससे वे आर्थिक तंगी के दर्दनाक दौर से गुजर रहे हैं। आज इंसानियत को कायम रखने के लिए अल्लाह के रसूल (स.) का पैगाम, जिसमें जकात के रूप में साल भर की कमाई का ढाई प्रतिशत  जरूरतमंदों को देना, ताकि इससे आर्थिक विषमता दूर  हो,  जरूरतमंदों की जिंदगी सुचारू रूप से चल सके, इस पर आज सभी दौलतमंदों को अमल करने की जरूरत है। काजीयान-ए-शरीयत, उलमा-ए-कराम, शिक्षाविदों,  बुद्धिजीवियों ने इस बार तय किया है कि मुश्किल की इस घड़ी में अपनी जान-ओ-माल की हिफाजत के लिए वे सादगी के साथ ईद मनाएंगे । ईद में होने वाले फिजूल खर्च की बजाए जरूरतमंदों की जरूरतों को पूरा करेंगे और जो बच जाए उसे आने वाले कल के लिए रखेंगे। इस बार ईद-उल-फित्र की नमाज अपने अपने घरों में रहकर दो रकात नमाज-ए-शुकराना अदा करेंगे ।  प्रशासन का साथ देंगे और दुआ करेंगे कि जल्दी यह महामारी पूरी दुनिया से खत्म हो जाय ।  जिससे हम फिर से खुशगवार समाज की ओर लौट सकें । 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना