पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आस्था:केंद्रीय जेपी कारा के 28 बंदी कर रहे हैं छठ व्रत

हजारीबाग9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बंदियों के सेल के सामने बनाया है अर्घ्य अर्पित करने के लिए जल कुंड, तैयारी में जुटा कारा प्रशासन

लोकनायक जयप्रकाश नारायण सेंट्रल जेल के भीतर भी भक्ति कि बयार बह रही है। कारा के 28 महिला पुरुष बंदी छठ व्रत कर रहे हैं। सूर्य उपासना में जुटे बंदियों को पूजन सामग्री की व्यवस्था देने में कारा प्रशासन जुटा हुआ है। कोविड-19 की गाइडलाइन को देखते हुए इस बार कारा प्रशासन ने छठ व्रत कर रहे बंदियों के सेल के सामने ही जल कुंड बनवाया है ताकि वे अपने-अपने सेल के सामने बने हौदा में ही सूर्य देव को अर्घ्य दें।

प्रत्येक वर्ष की तरह इस बार भी जेपी केंद्रीय कारा मे आस्था और विश्वास का महापर्व छठ मनाया जा रहा है। जेल में बंदी भक्ति में सराबोर है। जो खुद व्रत नहीं कर रहे हैं वे छठ व्रतियों को मदद कर रहे हैं। जेल की साफ सफाई के साथ सजाने में भी जुटे हैं।

16 महिला और 12 पुरुष बंदी ने किया है व्रत, 125 किलो आटा का बन रहा ठेकुआ

इस बार 16 महिला और 12 पुरुष बंदी समेत कुल 28 बंदी छठ व्रत कर रहे हैं। छठ पूजा को लेकर जेल प्रशासन ने पूरी तैयारी कर ली है। कारा अधीक्षक कुमार चंद्रशेखर ने बताया कि कोरोना संक्रमण के मद्देनजर तालाब में इस बार अर्ध्य देने की व्यवस्था नहीं की गई है। स्टेट वार्ड और महिला वार्ड के सामने हौज बनाया गया है। जिसमें बाहर से पानी भरा गया है। ताकि छठ व्रतियों को अर्घ्य देने में कोई कठिनाई नहीं हो।

जेल प्रशासन ने सभी छठ व्रतियों को नए कपड़े के साथ पूजन की सारी सामग्री उपलब्ध कराई है। फल फूल वस्त्र के साथ 125 किलो आटे का ठेकुआ बनाया गया है। जेल में बनाए गए स्टेट वार्ड और महिला वार्ड छठ घाट पर बंदियों ने आकर्षक विद्युत सज्जा की है। कारा अधीक्षक ने बताया कि नहाए खाए के दिन व्रतियों के साथ अन्य बंदियों के लिए चना दाल लौकी और अरवा चावल के भात का इंतजाम किया गया था।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज भविष्य को लेकर कुछ योजनाएं क्रियान्वित होंगी। ईश्वर के आशीर्वाद से आप उपलब्धियां भी हासिल कर लेंगे। अभी का किया हुआ परिश्रम आगे चलकर लाभ देगा। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे लोगों के ल...

और पढ़ें