उद्घाटन:राज्यपाल ने विवि परिसर में रुद्राक्ष का पौधा लगाया, कहा-कॉलेजों में लेक्चरर-प्रोफेसर के बिना पढ़ाई कैसे होगी, इसका मुझे अंदाजा है

हजारीबाग2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भवन का फीता काटकर उद्घाटन करते राज्यपाल, साथ में हैं जयंत सिन्हा और वीसी डॉ मुकुल नारायण देव। - Dainik Bhaskar
भवन का फीता काटकर उद्घाटन करते राज्यपाल, साथ में हैं जयंत सिन्हा और वीसी डॉ मुकुल नारायण देव।

विनोबा भावे विश्वविद्यालय परिसर हजारीबाग में नवनिर्मित बहुद्देशीय भवन एवं डिजिटल स्टूडियो का उद्घाटन बुधवार को झारखंड के राज्यपाल रमेश बैस ने किया। नवनिर्मित भवन के सामने रुद्राक्ष का पौधा भी लगाया। भवन के उद्घाटन के बाद डिजिटल स्टूडियो का उद्घाटन किया और इस स्टूडियो की तारीफ करते हुए वहां से सीधे विवेकानंद हॉल में आयोजित उद्घाटन समारोह में पहुंचे। वीसी डॉ मुकुल नारायण देव ने राज्यपाल का स्वागत किया।

राज्यपाल ने उद्घाटन समारोह में संत विनोबा को नमन करते हुए कहा कि राज्य की शैक्षणिक, प्रशैक्षणिक गतिविधियों की जानकारी लेता रहता हूं। स्वास्थ्य और शिक्षा का क्षेत्र मेरी प्राथमिकता में है। दोनों ठीक हो जाए तो प्रदेश में विकास नहीं रुकेगा। हमें कुलपतियों ने अपनी कठिनाइयों को बताया है। लेक्चरर प्रोफेसर नहीं दे पाया तो शिक्षा कैसे होगी, इसका मुझे अंदाजा है। उन्होंने अपने क्षेत्र भ्रमण के दौरान मिले अनुभवों को भी साझा करते हुए कहा कि मुझसे लोगों ने बिना शिक्षक परीक्षा में विद्यार्थियों की परेशानी से भी अवगत कराया है। हमें गांव में भी शिक्षा की सुविधा देनी होगी। झारखंड के विकास के लिए केंद्र और आप लोगों से सहयोग की अपेक्षा है।

उन्होंने कहा कि बेहतर शैक्षणिक माहौल विकसित करना है। इसके लिए हमारे शिक्षक समाज के सामने अनुकरणीय आचरण प्रस्तुत करें। विद्यार्थियों का सही मार्गदर्शन करें, जिनसे वे अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन कर सकें। शिक्षण संस्थानों में पढ़ाई के साथ मानवता, सदाचार और नैतिक मूल्य विकसित करने का भी प्रयास होना चाहिए। विश्वविद्यालय में कोरोना काल के दौरान डिजिटल स्टूडियो का निर्माण आपदा को अवसर में बदलने का सराहनीय प्रयास है। बहुउद्देशीय भवन सेवा, रोजगार शिक्षा और खेल का समन्वित रूप दिखेगा।

तीन पुस्तकों का किया गया विमोचन
राज्यपाल और अतिथियों ने मिलकर विनोवा भावे विश्वविद्यालय के शिक्षकों द्वारा रचित तीन पुस्तकों और एक जर्नल का विमोचन किया। प्रबंधन विभाग के फ्यूचरिस्टिक जर्नल ऑफ मैनेजमेंट, संत कोलंबा कॉलेज के शिक्षक डॉ शत्रुघ्न पांडे की पुस्तक अमेरिका का इतिहास, लॉ कॉलेज के प्राचार्य जयदीप सान्याल की पुस्तक सस्टेनेबल डेवलपमेंट ऑफ इंडिया और संत कोलंबा कॉलेज के ही डॉ सुनील दुबे की पुस्तक केदारनाथ अग्रवाल की कविताओं में लोक रंग का विमोचन किया गया।

डिजिटल स्टूडियो पूर्व में था शोध केंद्र

विनोबा भावे विश्वविद्यालय हजारीबाग में राज्यपाल ने जिस डिजिटल स्टूडियो का उद्घाटन किया। वह पूर्व में वीसी का कार्यालय था। वीसी गुरदीप सिंह के कार्यकाल में उक्त कक्ष को यशवंत सिन्हा लोकनीति शोध केंद्र बनाया गया था। पूर्व राज्यपाल ने लोकनीति शोध केंद्र का उद्घाटन किया था। इसी कमरे को डिजिटल स्टूडियो में तब्दील कर दिया गया है।

पद सृजन किया जाए : कुलपति
विनोबा भावे विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ मुकुल नारायण देव ने अतिथियों का स्वागत करते हुए बताया कि कोरोना काल में उन्होंने पदभार ग्रहण किया। यहां 19 पीजी के विभाग हैं लेकिन शिक्षकों के पद कुछ ही विभागों में स्वीकृत हैं। शिक्षकों का वेतन निर्धारण भी लंबित है। उन्होंने राज्यपाल से पीजी में शिक्षकों के पद सृजन कराने की अपील की। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय में अंक पत्र, प्रमाण पत्र सहित अन्य विद्यार्थियों के जरूरतमंद के दस्तावेज ऑनलाइन उपलब्ध कराए जा रहे हैं। कुलपति ने कहा कि 250 बेड का बालक छात्रावास पूरा होने जा रहा है एवं 13 करोड़ की लागत से ट्राइबल स्टडी सेंटर का निर्माण फिर से प्रारंभ किया गया है।

खबरें और भी हैं...