जेल पहुंचने वाले बंदी 14 दिन कोरेंटीन:कोरोना के बढ़ते ग्राफ को लेकर जेपी कारा प्रशासन अलर्ट, 153 मरीज मिले, एक बंदी निकला पॉजिटिव किया गया आइसोलेट

हजारीबाग19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • मुलाकाती काउंटर पर मैनुअल मुलाकात बंद, ई मुलाकात है वैकल्पिक व्यवस्था

लोकनायक जयप्रकाश नारायण केंद्रीय कारा में 5 माह बाद एक बार फिर से मुलाकात काउंटर से मैनुअल मुलाकात को बंद कर दिया गया। कोरोना के बढ़ते ग्राफ को लेकर कारा प्रशासन अलर्ट मोड में है। बचाव को लेकर जितनी भी व्यवस्थाएं हो सकती हैं उसे अख्तियार किया जा रहा है। बाहर से आए एक बंदी के पॉजिटिव निकलने के बाद विशेष सावधानी अख्तियार किया जा रहा है। उसे आइसोलेट कर दिया गया है। जेल में क्वारेंटीन सेंटर स्थापित किया गया है जहां बाहर से पहुंचने वाले बंदियों को 14 दिन तक क्वारेंटीन किया जा रहा है उसके बाद ही किसी वार्ड में भेजा जा रहा है।

क्या है सिस्टम: जेपी कारा में मुलाकात के लिए पांच काउंटर बनाए गए हैं। जहां बंदियों के परिजन पहुंचकर अपने बंदी परिवार से सामने से मुलाकात कर पाते थे। यह मुलाकात कोरोना के पहले और दूसरे लहर में बंद रहा, ऐसे में ई मुलाकात की व्यवस्था दी गई थी। जिससे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से लोग घर बैठे अपने बंदी परिजन से मुलाकात कर पाते थे।

दूसरी लहर के बाद जब कोरो ना स्थिर हुआ था तो एक बार फिर से जुलाई माह में मैनुअल मुलाकात चालू कर दिया गया था। अचानक तीसरी लहर को देखते हुए कारा प्रशासन ने पुनः मैनुअल मुलाकात पर बंदी लगा दिया है। अब पूर्व की भांति घर बैठे लोग वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ही मुलाकात कर पाएंगे। यह मुलाकात का भी समय सीमा निर्धारित है।

इधर जेपी कारा में कोरोना से बंदी प्रभावित नहीं हो इसको लेकर कारा प्रशासन ने एक क्वारेंटाइन सेंटर स्थापित किया है। जहां बाहर से पहुंचने वाले बंदियों को 14 दिनों तक क्वारेंटाइन किया जाता है। क्वारेंटीन में जो बंदी स्वस्थ पाए जाते हैं उन्हें टेस्ट के बाद उनके संबंधित वार्ड में भेजा जाता है।

कारा अधीक्षक कुमार चंद्रशेखर ने कहा कि कोरोना को लेकर एहतियात बरता जा रहा है। सभी बंदी कोविड-19 गाइडलाइन का अनुपालन कर रहे हैं। जेल में निर्मित मास्क का उपयोग सभी बंदी कर रहे हैं। जरूरत के मुताबिक मास्क का निर्माण भी जारी है। बाहर से पहुंचने वाले बंदियों के लिए क्वारेंटीन सेंटर बनाया गया है। जहां 14 दिन गुजारने के बाद ही वे वार्ड में भेजे जा रहे हैं। काउंटर से सीधे मुलाकात को बंद कर दिया गया है। अभी ई मुलाकात ही वैकल्पिक व्यवस्था दी गई है।

विभावि प्रशासनिक भवन में कोविड जांच, 12 संक्रमित
विनोबा भावे विश्वविद्यालय के प्रशासनिक भवन में शुक्रवार को कोविड-19 जांच शिविर लगाया गया। उद्घाटन कुलपति डॉ मुकुल नारायण देव ने किया। उन्होंने कहा कि इस महामारी के लगातार बढ़ते हुए प्रकोप को देखते हुए जरूरी है कि सावधानी बरतने एवं जागरूकता लाने के लिए कोविड की जांच की जाए। 11:00 से 3:00 बजे तक चली जांच में प्रशासनिक कार्यालय और परीक्षा विभाग के 100 कर्मियों की जांच की गई। पदाधिकारी और कर्मी को मिलाकर 12 लोगों के संक्रमित होने की सूचना है। प्रशासनिक भवन में सभी विभाग के कर्मी और शिक्षक पहुंचते हैं। इस लिहाज से विश्वविद्यालय में और भी संक्रमित के मिलने की संभावना है। सिविल सर्जन कार्यालय हजारीबाग के तत्वावधान में आयोजित शिविर का मार्ग निर्देशन लॉ कॉलेज के प्राचार्य डॉ जयदीप सान्याल कर रहे थे।

खबरें और भी हैं...