मांग:महाबोधि, ब्लैक डायमंड ट्रेन का हजारीबाग में हाे ठहराव

हजारीबाग5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मण्डल स्तरीय सांसदों की समिति में हजारीबाग को लंबी दूरी की ट्रेन देने की पुरजोर मांग सांसद प्रतिनिधि ने की है। गुरुवार को धनबाद सांसद पीएन सिंह की अध्यक्षता में हुई बैठक में हजारीबाग सांसद जयंत सिन्हा द्वारा अधिकृत प्रतिनिधि जीतू जैन ने समिति से आनंद विहार और दिल्ली के बीच चलने वाली महाबोधि एक्सप्रेस का विस्तार हजारीबाग टाउन स्टेशन तक करने की मांग की है। साथ ही हावड़ा-धनबाद के बीच चलने वाली ब्लैक डायमंड का विस्तार हजारीबाग टाउन स्टेशन तक करने की मांग की है।

इसके अलावा गिरिडीह-राँची वाया हजारीबाग टाउन इंटरसिटी, झारखंड स्वर्ण जयंती सप्ताह में एक दिन हजारीबाग होकर चलाने और पटना के लिए एक इंटरसिटी की मांग की है। सांसद प्रतिनिधि ने रिजर्वेशन काउंटर को पूरे बारह घंटे खोलने की मांग की है। इसके अतिरिक्त कई अन्य मांगें समिति के समक्ष रखी। हम आपको बता दें कि बैठक पूर्व जो मसौदा मण्डल के समक्ष भेजा गया था उसमें ये मांगें शामिल नहीं थी। मंडल स्तरीय सांसदों की समिति की इस बैठक में कई सांसद और सांसदों के प्रतिनिधि मौजूद थे।

हज़ारीबाग के रेल नेटवर्क को मजबूत बनाने में इससे मदद मिलेगी

मंडल स्तरीय समिति रेलवे के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण मानी जाती है। जमीनी स्तर पर नीति संबंधी निर्णय के लिए यह प्रभावी मंच है। इसके अतिरिक्त जोन स्तर पर सांसदों की जो समिति है वो महत्वपूर्ण मानी जाती है। क्योंकि मण्डल स्तर पर तैयार प्रस्तावों का अनुमोदन यही होता इसके बाद इन प्रस्तावों को रेलवे बोर्ड के समक्ष रखा जाता है। सांसद द्वारा अधिकृत प्रतिनिधि ने जिस तरह से जोरदार मांग उठाई है उसका लाभ आगे हजारीबाग को मिलेगा।

ख़ुद सांसद जयंत सिन्हा, राज्य सभा सांसद जफर इस्लाम और केंद्रीय मंत्री सह कोडरमा सांसद अन्नपूर्णा देवी ने भी रेल मंत्री के समक्ष कई मांग रखते आए है। हालांकि बजट में सरकार अब किसी ट्रेन की घोषणा नहीं करती है। जानकर बताते है कि ऐसा होने से नई ट्रेनों की घोषणा में अधिकारियों की भूमिका बढ़ी है। लेकिन सांसद सक्रिय हो तो इसका लाभ भी मिलता है। झारखंड में नई रेल लाइनों का निर्माण तो हुआ है लेकिन रेलवे का सारा फोकस सिर्फ़ खनिजों की ढुलाई पर केंद्रित है। इन लाइनों पर ज़रूरत के हिसाब से ट्रेनें देने में बहुत पीछे है रेल महकमा।

खबरें और भी हैं...