पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

याद्दाश्त लौटी:फोटो देखते ही पत्नी और बेटे को पहचान गया कोलेश्वर, भरतपुर से हजारीबाग लौटा

हजारीबाग14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 15 साल पहले राजस्थान में खो गई थी याददाश्त

करीब 15 साल पहले झारखंड के हजारीबाग से अचानक लापता हुए कोलेश्वर प्रसाद की बुधवार को उस समय याददाश्त लौट आई जब उसने लंबे समय बाद अचानक परिवार वालों को अपने सामने देखा। इस लंबे अंतराल में बच्चे बड़े हो चुके थे। एक बेटी की शादी हो गई और बेटे दुकान चला रहे हैं। पत्नी भी आंगनबाड़ी में काम करके घर खर्च चला रही थी। इतने लंबे समय बाद परिवार का इस तरह मिलन होने पर सभी की आंखें भर आईं। बाद में अपनाघर प्रबंधन ने कोलेश्वर प्रसाद को परिवार के साथ उसके घर भेज दिया।

अपनाघर प्रबंधन के मुताबिक कोलेश्वर प्रसाद मानसिक रूप से कमजोर है। घर से लापता होने के बाद वह इधऱ-उधर भटकता रहा। किसी ने मानसिक रूप से कमजाेर देख उसे अपनाघर आश्रम में भिजवा दिया। यहां उसका इलाज कराने के साथ ही काफी देखभाल की गई। जब वह थोड़ा ठीक हुआ तो जैसे-तैसे उसके घर-परिवार और पते-ठिकाने के बारे में जानकारी ली तो पता चला कि वह हजारीबाग (झारखंड) का रहने वाला है।

अचानक गायब होने से घरवाले परेशान रहते थे

हालांकि वह बहुत ज्यादा कुछ बता नहीं पा रहा था। लेकिन, जितनी सूचना मिली, उसी के आधार पर परिजनों को स्थानीय थाने के माध्यम से सूचित किया गया। उधर, कोलेश्वर प्रसाद के अचानक गायब होने से घर वाले भी काफी परेशान थे। उसके भरतपुर में होने की सूचना मिलते ही परिजन यहां आ गए। कोलेश्वर के परिजनों ने बताया कि उसका झारखंड के बांके अस्पताल में इलाज चल रहा था। लेकिन, एक दिन वह अचानक गायब हो गया। उन्होंने उसे काफी तलाश किया। लेकिन, कोई पता नहीं चला। इससे पत्नी, पुत्री और दो पुत्र काफी परेशान हो गए। उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। सन 2008 में पत्नी ऊषा को आंगनबाड़ी में रोजगार मिल गया। इससे उसने बेटी की शादी कर दी और बच्चों को दुकान खुलवा दी। इससे घर खर्चा चलने लगा।

बीवी-बच्चों के साथ पुरानी फोटो दिखाईं तो याद आया

अपनाघर प्रबंधन के मुताबिक कोलेश्वर प्रसाद (प्रभुजी) को लेने उसकी पत्नी ऊषा, छोटा पुत्र विकास और दामाद शशि भूषण प्रसाद लिवाने आश्रम में आए थे। जब कोलेश्वर प्रसाद को इनके बारे में बताया गया तो वह कुछ समझ नहीं पाया। लेकिन, जब उसे परिजनों ने रूबरू मिलाया तो उसकी याददाश्त लौट आई। फिर वीडियो कॉलिंग के जरिए अन्य परिजनों से बात कराने के साथ ही उसे कुछ पुरानी फोटोज भी दिखाई गई थीं। पुराने फोटो दिखाने के बाद उसने अपने बेटे विकास और पत्नी ऊषा को पहचान लिया। पत्नी भी इतने लंबे समय बाद अपने सुहाग को देखकर आंसू नहीं रोक पाई। बाद में उन्हें झारखंड के लिए रवाना कर दिया गया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कहीं इन्वेस्टमेंट करने के लिए समय उत्तम है, लेकिन किसी अनुभवी व्यक्ति का मार्गदर्शन अवश्य लें। धार्मिक तथा आध्यात्मिक गतिविधियों में भी आपका विशेष योगदान रहेगा। किसी नजदीकी संबंधी द्वारा शुभ ...

    और पढ़ें