कार्यक्रम का आयोजन:तीन नए कृषि कानून के खिलाफ विपक्षी दलों ने दिया धरना, कहा-किसानों को नहीं होगा फायदा

हजारीबाग2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

तीन कृषि काला कानून तथा अप्रत्याशित मूल्य वृद्धि के खिलाफ भाजपा विरोधी दलों का संयुक्त एकदिवसीय धरना कार्यक्रम का आयोजन किया गया। धरना कार्यक्रम में कांग्रेस, झामुमो, आरजेडी, सीपीआई, सीपीएम, भाकपा माले, बसपा भाजपा विरोधी दल शामिल हुए। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए जिला कांग्रेस के अध्यक्ष अवधेश कुमार सिंह ने कहा कि भाजपा की केन्द्र सरकार के अड़ियल रवैया से देश को बर्बाद करने पर तुली हुई है। करीब नौ महिनों से किसान आंदोलित हैं।

इस आंदोलन के क्रम में कई किसानों ने अपने प्राणों की आहुति भी दे दी। पेट्रोल-डीजल, रसोई गैस के अतिरिक्त खाद्य सामग्री की मंहगाई अपने चरम सीमा को पार कर चुकी है । मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित सीपीआई के प्रदेश सचिव भुनेश्वर प्रसाद मेहता ने कहा कि विगत मानसून सत्र 2020 संसद में किसान विरोधी कृषि तीन काला कानून प्रथम किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य नही मिलेगा, बिचौलिए हावी होंगे एंव ओने-पौने दाम में ही धान एंव गेहूं बिकेगा, जिससे उत्पादन लागत भी पूरा नहीं हो सकेगा । विशिष्ट अतिथि के रूप मे उपस्थित बड़कागांव विधायक अंबा प्रसाद ने कहा कि कृषि के दूसरे काला कानून से जगह-जगह कृषि बाजार मंडी भी समाप्त हो जायेंगे। झामुमो के जिला अध्यक्ष शंभू लाल यादव ने कहा कि तृतीय काला कानून भंडारण की सीमा समाप्त कर दिया गया है, जिससे बड़े पूंजीपति लोग अनाज की जमाखोरी करेंगे।

एक तरफ तो किसानों से कम दाम में अनाज खरीदेंगे दूसरी तरफ उपभोक्ताओं से अधिक मूल्य वसूल करेंगे। कार्यक्रम का संचालन सीपीएम के जिला सचिव गणेश कुमार सीटू तथा धन्यवाद ज्ञापन राजद के जिला अध्यक्ष संजर मल्लिक ने किया। कार्यक्रम के अंत में जिला उपायुक्त के माध्यम से राष्ट्रपति को 11 सूत्री मांगपत्र सौंपा गया। मौके पर कांग्रेस के पूर्व जिला जवाहर लाल सिन्हा, झामुमो के नीलेश पाठक, राजद के बसंत नारायण मेहता, सीपीआई के महेन्द्र राम, बसपा शिला देवी, भाकपा माले के सफदर इमाम, सीपीएम के विजय मिश्रा, कांग्रेस के वीरेंद्र कुमार सिंह, शशि मोहन सिंह, उपाध्यक्ष सह प्रवक्ता निसार खान मिथिलेश दुबे, जावेद इकबाल, ओमप्रकाश गोप, केडी सिंह, ललितेश्वर प्रसाद चौधरी, अर्जुन सिंह, संजय कुमार तिवारी, मकसूद आलम, डाॅ. दीपक बंधू, रजी अहमद, सुधीर कुमार पांडेय, बिनोद कुशवाहा, अजित कुमार सिंह, सदरूल होदा, बेबी देवी, दिगंबर मेहता, बिनोद कुमार यादव, अजय कुमार गुप्ता, मजहर हुसैन सहित कई कार्यकर्ता व नेता उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...